A A A A A
Bible Book List

भजन संहिता 34Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

जब दाऊद अबीमेलेक क समन्वा पागल होइ क देखाँवा किहस। जेहसे अबीमेलेक ओका भगाइ देइ, इ प्रकार दाऊद ओका तजिके चला गवा। उहइ अवसर पइ दाऊद क एक ठु पद।

34 मइँ यहोवा क सदा धन्न कहब।
    मेरे ओंठन पइ सदा ओकर स्तुति अहइ।
हे नम्र लोगो! सुना अउ खुस होइ जा।
    मोर सेखी यहोवा क बारे मँ अहइ।
मोरे संग यहोवा क गरिमा क गुणगान करा।
    आवा, हम एक साथ घोसना करी कि उ केतॅना अच्छा अहइ।
मइँ परमेस्सर क लगे मदद माँगइ गएउँ, उ मोर सुनेस।
    उ मोका ओन सबहिं बातन स बचाएस जेनसे मइँ डेरात हउँ।
गरीब लोग ओकरे कइँती मदद बरे लखत हीं।
    ओनकर फीका चेहरन खुसी स गाइ उठेन
    काहेकि उ ओनका उत्तर दिहस।
इ दीन जन यहोवा क मदद बरे पुकारेस,
    अउर यहोवा मोर सुनि लिहस।
    अउर उ सब विपत्तियन स मोर रच्छा किहस।
यहोवा क दूत ओकरे भगत जनन क चारिहुँ कइँती डेरा डाए रहत ह।
    अउर यहोवा क दूत ओन लोगन क रच्छा करत ह।
चखा अउर समझा कि यहोवा केतॅना भला बाटइ।
    उ मनई जउन यहोवा क भरोसे अहइ फुरइ खुस रही।
यहोवा क पवित्तर जन क ओकर आराधना करइ चाही।
    यहोवा क भगतन बरे कउनो दूसर सुरच्छित ठउर नाहीं बा।
10 आजु जउन बरिआर अहइँ दुर्बल अउ भूखा होइ जइहीं।
    मुला जउन परमेस्सर क सरण आवत हीं उ सबइ लोग हर उत्तिम वस्तु पइहीं।
11 हे बालको, मोर सुना,
    अउर मइँ तू पचन्क सिखाउब कि यहोवा क सेवा कइसे करइँ।
12 अगर कउनो मनई जिन्नगी स पिरेम करत ह,
    अउर बढ़िया अउ बड़की जिन्नगी क जिअइ चाहत ह?
13 तउ उ मनई क बुरा नाहीं बोलइ चाही,
    उ मनई क झूठ नाहीं बोलइ चाही।
14 बुरा काम जिन करा, नेक काम करत रहा।
    सान्ति क कारज करा, सान्ति क प्रयास मँ जुटा रहा जब तलक ओका पाइ न ल्या।
15 यहोवा सज्जन लोगन क रच्छा करत ह।
    ओनकर पराथनन पइ उ कान देत ह।
16 मुला यहोवा, जउन बुरा करम करत हीं, अइसे मनइयन क खिलाफ होत ह।
    एह बरे उ लोग मरइ क पाछे बिसरि दीन्ह जाइहीं।

17 यहोवा स बिनती करा, उ तोहार सुनी।
    उ तू पचन्क तोहरी सबहिं मुसीबतन स बचाइ लेइ।
18 लोगन पइ मुसीबत आइ सकत हीं अउर उ पचे अभिमानी होब तजि देत हीं।
    यहोवा ओन लोगन क निअरे रहत ह।
    जेनकर टूटा मन अहइँ ओनका उ बचाइ लेइ।
19 होइ सकत ह सज्जन भी बिपदन मँ घिर जाइँ।
    मुला यहोवा ओन सज्जन लोगन क ओनकर हर समस्या स रच्छा करी।
20 यहोवा ओनकइ सब हाड़न स रच्छा करी।
    ओनकर एक भी हाड़ नाहीं टूटी।
21 दुट्ठता दुटठ लोगन बरे मउत लावत ह।
    सज्जन क विरोधी नस्ट होइ जइहीं।
22 यहोवा आपन हर दास क आतिमा बचावत ह।
    जउन लोग ओह पइ भरोसा रखत हीं, उ ओन लोगन क नस्ट नाहीं होइ देइ।

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version Copyright © 2005 World Bible Translation Center

  Back

1 of 1

You'll get this book and many others when you join Bible Gateway Plus. Learn more

Viewing of
Cross references
Footnotes