A A A A A
Bible Book List

भजन संहिता 48 Hindi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-HI)

एक भक्ति गीत; कोरह परीवार का एक पद।

48 यहोवा महान है!
    वह परमेश्वर के नगर, उसके पवित्र नगर में प्रशंसनीय है।
परमेश्वर का पवित्र नगर एक सुन्दर नगर है।
    धरती पर वह नगर सर्वाधिक प्रसन्न है।
सिय्योन पर्वत सबसे अधिक ऊँचा और सर्वाधिक पवित्र है।
    यह नगर महा सम्राट का है।
उस नगर के महलों में
    परमेश्वर को सुरक्षास्थल कहा जाता है।
एकबार कुछ राजा आपस में आ मिले
    और उन्हेंने इस नगर पर आक्रमण करने का कुचक्र रचा।
सभी साथ मिलकर चढ़ाई के लिये आगे बढ़े।
    राजा को देखकर वे सभी चकित हुए।
    उनमें भगदड़ मची और वे सभी भाग गए।
उन्हें भय ने दबोचा,
    वे भय से काँप उठे!
प्रचण्ड पूर्वी पवन ने
    उनके जलयानों को चकनाचूर कर दिया।
हाँ, हमने उन राजाओं की कहानी सुनी है
    और हमने तो इसको सर्वशक्तिमान यहोवा के नगर में हमारे परमेश्वर के नगर में घटते हुए भी देखा।
यहोवा उस नगर को सुदृढ़ बनाएगा।

हे परमेश्वर, हम तेरे मन्दिर में तेरी प्रेमपूर्ण करूणा पर मनन करते हैं।
10 हे परमेश्वर, तू प्रसिद्ध है.
    लोग धरती पर हर कहीं तेरी स्तुति करते हैं।
    हर मनुष्य जानता है कि तू कितना भला है।
11 हे परमेश्वर, तेरे उचित न्याय के कारण सिय्योन पर्वत हर्षित है।
    और यहूदा की नगरियाँ आनन्द मना रही हैं।
12 सिय्योन की परिक्रमा करो। नगरी के दर्शन करो।
    तुम बुर्जो (मीनारों) को गिनो।
13 ऊँचे प्राचीरों को देखो।
    सिय्योन के महलों को सराहो।
तभी तुम आने वाली पीढ़ी से इसका बखान कर सकोगे।
14 सचमुच हमारा परमेश्वर सदा सर्वदा परमेश्वर रहेगा।
    वह हमको सदा ही राह दिखाएगा। उसका कभी भी अंत नहीं होगा।

Hindi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-HI)

2010 by World Bible Translation Center

Psalm 48 New International Version (NIV)

Psalm 48[a]

A song. A psalm of the Sons of Korah.

Great is the Lord, and most worthy of praise,
    in the city of our God, his holy mountain.

Beautiful in its loftiness,
    the joy of the whole earth,
like the heights of Zaphon[b] is Mount Zion,
    the city of the Great King.
God is in her citadels;
    he has shown himself to be her fortress.

When the kings joined forces,
    when they advanced together,
they saw her and were astounded;
    they fled in terror.
Trembling seized them there,
    pain like that of a woman in labor.
You destroyed them like ships of Tarshish
    shattered by an east wind.

As we have heard,
    so we have seen
in the city of the Lord Almighty,
    in the city of our God:
God makes her secure
    forever.[c]

Within your temple, O God,
    we meditate on your unfailing love.
10 Like your name, O God,
    your praise reaches to the ends of the earth;
    your right hand is filled with righteousness.
11 Mount Zion rejoices,
    the villages of Judah are glad
    because of your judgments.

12 Walk about Zion, go around her,
    count her towers,
13 consider well her ramparts,
    view her citadels,
that you may tell of them
    to the next generation.

14 For this God is our God for ever and ever;
    he will be our guide even to the end.

Footnotes:

  1. Psalm 48:1 In Hebrew texts 48:1-14 is numbered 48:2-15.
  2. Psalm 48:2 Zaphon was the most sacred mountain of the Canaanites.
  3. Psalm 48:8 The Hebrew has Selah (a word of uncertain meaning) here.
New International Version (NIV)

Holy Bible, New International Version®, NIV® Copyright ©1973, 1978, 1984, 2011 by Biblica, Inc.® Used by permission. All rights reserved worldwide.

Viewing of
Cross references
Footnotes