A A A A A
Bible Book List

नीतिवचन 18Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

18 कछू मनई आपन इच्छा क अनुसार काम करत ही। जदि दूसर कउनो ओनका सलाह देत ह तउ उ कोहान जात ह।

मूरख जन दूसर स सीखइ मँ खुस नाही होत ह। उ जउन कछू सोचत ह उहइ बोलत मँ खुस होत ह।

लोग दुट्ठ व्यक्ति क नाही चाहवत ह। लोग मूरख लोग क मजाक उड़ावत ह।

बुद्धिमान क सब्द गहिर जल क नाईं होत हीं, उ पचे बुद्धि क सोता स उछरत भए आवत हीं।

दुट्ठ जन क पच्छ लेब अउर निदोर्ख क निआव स वंचित राखब उचित नाहीं होत।

मूरख क होठंन बात-विबाद क जनम देत ह अउर आपन मुँह क कारण उ पिटा जात ह।

मूरख क मुँह ओकरे कामे क बिगाड़ देत ह अउर ओकर आपन ही होंठन क जाले मँ ओकर परान फंसि जात ह।

लोग हमेसा गपसप सुनइ चाहत ही। इ उत्तिम भोजन क नाई अहइ जउन पेट क भीतर उतरत चला जात ह।

जउन अपन काम मंद गति स करत ह, उ ओकर भाई अहइ, जउन विनास करत ह।

10 यहोवा क नाउँ एक सुदृढ़ गढ़ क नाईं अहइ। उ कइँती धमीर् जन दौड़ जात हीं अउर सुरच्छित रहत हीं।

11 धनिक समुझत हीं कि ओनकर धन ओनका बचाइ लेइ उ पचे समुझत हीं कि उ एक सुरच्छित किला अहइ।

12 पतन स पहिले मन अंहकारी बन जात ह, मुला सम्मान स पूर्व विनम्रता आवत ह।

13 बात क बिना सुने ही, जउन जवाब मँ बोल पड़त ह, उ ओकर बेववूफी अउ ओकर अपजस अहइ।

14 मनई क मन ओका बियाधि मँ थामे राखत ह; मुला टूटे हिरदय क भला कउनो कइसे थामइ।

15 बुद्धिमान क मन गियान क पावत ह, बुद्धिमान क कान एका खोज लेत हीं।

16 उपहार देइवाले क मारग उपहार खोलत ह अउर ओका महापुरुसन क समन्वा पहोंचाइ देत ह।

17 पहिले जउन बोलत ह ठीक ही लागत ह मुला बस तब तलक ही जब तलक दूसर ओहसे सवाल नाहीं करत ह।

18 अगर दुइ बरिआर आपुस मँ झगड़त होइँ, उत्तिम अहइ कि ओनके झगड़न क पाँसा बहाइके निपटाउब।

19 रूठे भए बन्धु क मनाउब कउनो गढ़ वाला सहर क जीत लेइसे जियादा कठिन अहइ। अउर आपुसी झगड़न अइसे होत ही जइसे गढ़ी क मुँदे दुआर होत हीं।

20 मनई क पेट ओकरे मुँहे क फले स ही भरत ह, ओकरे होंठन क खेती क प्रतिफल ओका मिलत ह।

21 जीभ क वाणी जिन्नगी अउर मउत क सक्ति रखत ह। अउर जउन वाणी स पिरेम राखत हीं, उ पचे ओकर फल स आनन्दित होत हीं।

22 जेका नीक पत्नी मिली अहइ, उ उत्तिम पदार्थ पाएस ह। ओका यहोवा क अनुग्रह मिलत ह।

23 गरीब जन तउ दाया क माँग करत ह, मुला धनी जन तउ कठोर जवाब देत ह।

24 बहोत सारे मीतन क संगत तबाही लाइ सकत ह। किंतु आपन घनिष्ठ मीत भाई स भी उत्तिम होइ सकत ह।

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version Copyright © 2005 World Bible Translation Center

  Back

1 of 1

You'll get this book and many others when you join Bible Gateway Plus. Learn more

Viewing of
Cross references
Footnotes