A A A A A
Bible Book List

निर्गमन 18Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

यित्रो मूसा क नगिचे आवत ह।

18 मूसा क ससुर यित्रो मिदियन मँ याजक रहा। यहोवा मूसा अउ इस्राएल क मनइयन क अनेक तरह स जउन मदद किहे रहा ओकरे बारे मँ यित्रो सुनेस। यित्रो इस्राएल क मनइयन क यहोवा क जरिए बाहेर लइ जाइ क बारे मँ सुने रहा। ऍह बरे यित्रो मूसा क लगे उ समइ गवा, जब उ परमेस्सर क पर्वत क नगिचे डेरा डाए रहा। उ मूसा क पत्नी बसही सिप्पोरा क आपन संग लइ आवा। (सिप्पोरा मूसा क संग नाहीं रही काहेकी मूसा ओका आपन बाप क घरे मँ पठए रहा।) यित्रो मूसा क दुइनउँ बेटवन क भी आपन संग लइ आवा। पहिलौटी बेटहना क नाउँ गेर्सोन राखे रहा, काहेकि जब उ पइदा भवा, मूसा कहेस, “मइँ बिदेस मँ अजनबी हउँ।” दुसरे बेटहना क नाउँ एलिएजेर राखेस काहेकि जब उ पइदा भवा तउ मूसा कहेस, “मोरे बाप क परमेस्सर मोर मदद किहेस ह अउ मिस्र क राजा क तरवार स मोका बचाएस ह।” ऍह बरे यित्रो मूसा क लगे तब गवा जब उ परमेस्सर क पर्वत सीनै पर्वते क निअरे रेगिस्ताने मँ डेरा डाए रहा। मूसा क मेहरारू अउ ओकर दुइ बेटवा यित्रो क लगे रहेन।

यित्रो मूसा क सँदेसा पठएस। यित्रो कहेस, “मइँ तोहार ससुर यित्रो अहउँ। अउर मइँ तोहार मेहरारू अउ ओकरे दुइनउँ बेटवन क तोहरे लगे लइ आवत हउँ।”

ऍह बरे अपने ससुर स मिलइ गवा। मूसा ओकरे समन्वा निहुरा अउ ओका चूमेस। दुइनउँ मनइयन एक दुसरे स हाल चाल पूछेन। तब उ पचे खेमा मँ गएन। मूसा आपन ससुर यित्रो क हर बात बताएस जउन यहोवा इस्राएल क मनइयन बरे किहे रहा। मूसा ओन सारी चीजन क बारे मँ बताएस जउन यहोवा फिरौन अउर मिस्र क लोगन क खिलाफ किहे रहा। अउर मूसा आपन ससुर क बताइ दिहस कि कउने तरह यहोवा इस्राएलियन क बचाएस जब उ पचे कस्ट मँ रहेन।

यित्रो उ समइया बहोत खुस भवा जब उ यहोवा क जरिए इस्राएल क मनइयन बरे सबहिं नीक बातन क सुनेस। यित्रो ऍह बरे खुस रहा कि यहोवा इस्राएल क मनइयन क मिस्री मनइयन स अजाद कइ दिहेस। 10 यित्रो कहेस:

“यहोवा क गुन गावा!
    उ तोहका मिस्र क मनइयन क अजाद कराएस।
    यहोवा तू पचन क फिरौन स बचाएस ह।
11 अब मइँ जानत हउँ कि यहोवा सबहिं देवतन स बड़वार अहइ।
उ पचे बिचारेन उ सबइ नियन्तरण मँ अहइँ मुला निहारा यहोवा का किहेस ह।”

12 तबहिं यित्रो होम बलि अउर दूसर बलि परमेस्सर क मान दइ बरे भेंट किहस। तबहिं हारून अउ इस्राएल क सबहिं नेतन परमेस्सर क समन्वा मूसा क ससुर यित्रो क संग खइया क खाएस।

13 दुसरे दिना मूसा लोगन क परखइ बरे बइठा। हुँवा लोगन क गिनती जियादा रही। इ कारण लोगन मूसा क समन्वा दिन भइ ठाड़ रहेन।

14 यित्रो मूसा क लोगन क परखते भए लखेस। उ पूछेस, “तू इ काहे करत बाट्या? का सिरिफ तू ही एक कानून क निआवधीस अहा? अउर मनइयन सिरिफ तोहरे लगे ही सारे दिन भइ काहे आवत हीं?”

15 तबहिं मूसा आपन ससुर स कहेस, “मनइयन मोरे लगे आवत हीं अउर आपन समस्या क बारे मँ मोसे यहोवा क निर्णय क बारे मँ पूछत हीं। 16 जदि ओन पचन मँ कउनो वाद-विवाद होत ह तउ उ पचे मोरे लगे आवत हीं। मइँ निर्णय देत हउँ कि कउन निआव प अहइ। इ तरह मइँ यहोवा क नेमन अउ ओकरे उपदेसन क बारे मँ मनइयन क बतावत हउँ।”

17 मुला मूसा क ससुर ओसे कहेस, “इ नीक तरीका काम करइ क नाहीं अहइ। 18 तोहरे अकेल्ले बरे इ काम बहोत जिआदा अहइ। एहसे तू थक जात ह अउर इ सबइ लोग भी थक जात ही। तू इ काम क खुद नाहीं कइ सकत्या। 19 अब मोरउ सुना। मइँ तोहका कछू सुझाव देत हउँ। मइँ तोहका बताउब कि तोहका का करइ चाही। मोर पराथना बा कि परमेस्सर तोहार साथ देइ हीं। तोहका लोगन क वाद-विवाद सुनब जारी रखइ चाही। तोहका इ तहत्तुकन अउ समस्या क परमेस्सर क समन्वा रखइ चाही। 20 तोहका परमेस्सर क नेमन अउ विधि का उपदेसन लोगन क देइ चाही। लोगन क चिताउनी द्या कि उ पचे परमेस्सर क नेम न तोड़इँ। लोगन क जानकार बना उ पचन्क कइसे जिअइ चाही। ओनका बतावा कि उ पचे का करइँ। 21 मुला तोहका लोगन मँ स कछू क जज अउ नेता क चुनइ चाही।

“उ नीक मनइयन क चुना जेहँ प तू पतिआत ह। उ मनइयन जउन यहोवा क मान करत हीं। उ मनइयन क चुना जउन धने खातिर आपन फइसला न बदल देइँ। इन चुने मनइयन क लोगन क प्रधान बनवा। एक हजार मनइयन, एक सौ मनइयन, पचास मनइयन, अउर दस मनइयन प भी एक प्रधान होइ क चाही। 22 इन ही सासक लोगन्क क मनइयन क निआव करइ द्या। अगर जिआदा कउनो गंभीर मामला होइ तउ प्रधान लोग तोहरे लगे आइ सकत हीं। अउ उ पचे दूसर मुकदमा क फैसला खुद कइ सकत हीं। इ तरह उ पचे तोहरे काम मँ मदद करिहीं अउ इ तोहरे बरे जिआदा सहल होइ जाइ। 23 जदि तू परमेस्सर क इच्छा स अइसा करत ह तबहिं तू आपन काम करइ बरे जोग्ग रहब्या। अउ ऍकरे संग संग सब मनइयन आपन समस्या क पूरी होइ जाए स संात होइके घरवा जाइ सकिहीं।”

24 ऍह बरे मूसा उहइ किहेस जइसा यित्रो कहे रहा। 25 मूसा इस्राएल क मनइयन मँ स नीक मनइयन क चुनेस। मूसा ओन मिला क मनइयन क अगुवा बनएस। हुवाँ एक हजार मनइयन, एक सौ मनइयन, पचास मनइयन, अउर दस मनइयन भी प्रधान रहेन। 26 इ प्रधान मनइयन क जज रहेन। मनइयन आपन आपन समस्या क एनके लगे हमेसा लइ आवत रहेन। अउर मूसा क सिरिफ गंभीर मामला निपटावइ क पड़त रहा।

27 तनिक समइया पाछे मूसा आपन ससुर यित्रो क बिदा किहेस अउ यित्रो अपने घरे लौटि गवा।

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version Copyright © 2005 World Bible Translation Center

  Back

1 of 1

You'll get this book and many others when you join Bible Gateway Plus. Learn more

Viewing of
Cross references
Footnotes