A A A A A
Bible Book List

दानिय्येल 2Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

नबूकदनेस्सर क सपना

नबूकदनेस्सर आपन सासन क दूसर बरिस मँ एक सपना लखेस। उ सपना स बेचैन होइ गवा अउर सोइ नाहीं सका। तउ राजा आपन जादूगरन, ओझन, भविस्स क बात बताइवालन अउर कसदियन [a] क आपन सपना क अरथ बतावइ बरे बुलाएन। एह बरे उ सबइ आएन अउर राजा क समन्वा खड़ा होइ गएन।

तब राजा ओन लोगन स कहेस, “मइँ एक सपना लखेउँ ह जेहसे मइँ बियावुल हउँ। मइँ इ जानइ चाहत हउँ कि उ सपना क अरथ का बाटइ?”

यह पइ ओन कसदियन राजा स उत्तर देत भए कहेन। उ सबइ अरामी भाखा मँ बोलत रहेन। “राजा चिरंजीव रहइँ। हम पचे तोहार दास अही। तू आपन सपन हमका बतावा। फिन हम तोहका ओकर अरथ बताउब।”

एह पइ राजा नबूकदनेस्सर ओन लोगन स कहेस, “नाहीं। उ सपना का रहा, इ भी तोहक ही बताउब अहइ अउर उ सपन क अरथ का अहइ, इ भी तोहका ही बताउब अहइ अउर जदि तू अइसा नाहीं कइ पाया तउ मइँ तोहार टूकन टूकन कइ डावइ क आग्या देब। मइँ तोहरे घरन क तोरिके मलवा क देर अउ राखी मँ बदल डावइ क आग्या भी दइ देब। अउ जदि तू मोका मोर सपना बताइ देत अहा अउर ओकर व्याखया कइ देत अहा तउ मइँ तोहका अनेक उपहार, बहोत स पुरस्कार अउ महान आदर प्रदान करब। तउ तू मोका मोर सपना क बारे मँ बतावा अउर बतावा कि ओकर अरथ का अहइ?”

ओन बुध्दिमान मनइयन राजा स फुन कहेन, “हे राजा, वृपा कइके हमका सपना क बारे मँ बतावा अउर हम तोहका इ बताउब कि उ सपना क फल का अहइ।”

एक पइ राजा नबूकदनेस्सर कहेस, “मइँ जानत हउँ, तू लोग अउर जियाद समइ लेइ क जतन करत अहा। तू जानत अहा कि मइँ जउन कहेउँ, उहइ मोर अभिप्राय अहइ। तू इ जानत अहा कि जदि तू मोका मोर सपना क बारे मँ नाहीं बताया तउ तोहका दण्ड दीन्ह जाइ। एह बरे तू पचे आपुस मँ जोजना बाएस क कि मोहसे झूठ बोलइ अउर गलत व्याखाय करब जब तलक कि स्थिति बदल न जाइ। अब बतावा कि मोका का सपना आवा रहा। इहइ एक रास्ता बाटइ पता करइ बरे कि का तू मोका मोरे सपना क सही अरथ बताइ सकत।”

10 कसदियन राजा क उत्तर देत भए कहेन, “हे राजा धरती पइ कउनो अइसा मनई नाहीं जउन अइसा कइ सकइ जइसा आप करइ क आग्रह करत ह। बुध्दिमान मनइयन स या जादूगरन स या कसदियन स कउनो भी महान अउर सक्तिसाली राजा कबहुँ भी अइसा करइ क नाहीं कहेस। 11 महाराज, आप उ काम करइ क कहत अहा, जउन संभव नाहीं अहइ। बस राजा क ओकरे सपना क बारे मँ अउर ओकरे फल क बारे मँ देवता ही बताइ सकत हीं। किन्तु देवता तउ लोगन क बीच नाहीं रहतेन।”

12 जब राजा इ सुनेस तउ ओका बहोत किरोध आवा अउर उ बाबुल क सबहिं बुद्धिमान मनइयन क मरवा डावइ क हुवूम दइ दिहस। 13 राजा क आदेस लागू होइ चुका रहेन। सबहीं बुध्दिमान मनइयन क मारा जाब रहा, एह बरे दानिय्येल अउ ओकर मीतन क भी मरवाइ डावइ बरे ओनकर खोज मँ राज पुरुस पठइ दीन्ह गएन।

14 अयोर्क राजा क रच्छकन क नायक रहा। उ बाबुल क बुध्दिमान मनइयन क मार अवइ बरे जात रहा, किन्तु दानिय्येल ओहसे बातचीत किहस। दानिय्येल अयोर्क स बुध्दिमानी क साथ नम्र होइके बात किहेस। 15 दानिय्येल अयोर्क स पूछेस, “राजा एतना कठोर दण्ड देइके आग्या काहे दिहेस ह”

एह पइ अयोर्क राजा क सपनावाली सारी कहानी कहि सुनाएस, दानिय्येल ओका समुझ गवा। 16 दानिय्येल जब इ कहानी सुन लिहेस तउ उ राजा नबूकदनेस्सर क लगे गवा। दानिय्येल राजा स बिनती किहेस कि उ ओका तनिक समइ अउर देइ। उ राजा स ओकार सपना क अरथ समेत बतावइ क वादा किहेस।

17 एकरे पाछे दानिय्येल अपने घर क चल दिहस। उ आपन मीत हनन्याह, मीसाएल अउ अजर्याह क उ सारी बातन कहि सुनाएस। 18 दानिय्येल आपन मीतन स सरग क परमेस्सर स पराथना करइ क कहेस। दानिय्येल ओनसे कहेस कि उ पचे परमेस्सर स पराथना करइँ कि उ ओन पइ दयालु होइ अउर इ रहस्स क समुझइ मँ ओनकर मदद करइ जेहसे बाबुल क दूसर विवेकी मनइयन क संग दानिय्येल अउ ओकर मीत भी घाट न उतारि दीन्ह जाइँ।

19 राति क समइ परमेस्सर एक दर्सन मँ दानिय्येल क उ रहस्स समुझाइ दिहस। एह पइ सरग क परमेस्सर क स्तुति करत भए। 20 दानिय्येल कहेस:

“परमेस्सर क नाउँ क सदा प्रसंसा करा।
    सक्ति अउ बुद्धिमान ओहमाँ ही होत ह।
21 उ ही समइ बुद्धिमान क बदलत ह।
    उहइ राजा लोगन क हटावत ह
    अउर उहइ राजा लोगन क नियुक्त करत ह।
उहइ बुध्दि देत ह अउर लोग बुध्दिमान बन जात हीं।
    उहइ लोगन क गियान देत ह अउर लोग गियानी बन जात हीं।
22 उ गहिर अउ छुपे रहस्सन क जानत ह जेका समुझ पाउब कठिन अहइ।
    प्रकास ओकरे संग रहत ह।
    तउ उ जानत ह कि अँधियारा मँ अउ रहस्स भरे स्थानन मँ का अहइ।
23 हे मोरे पुरखन क परमेस्सर, मइँ तोहका धन्यवाद देत हउँ अउ तोहार गुण गावत हउँ।
    तू ही मोका गियान अउ बुद्धिमत्ता दिहा।
जउन बातन मइँ पूछे रहे ओकरे बारे मँ तू मोका बताया।
    तू हमका राजा क सपना क बारे मँ बताया।”

दानिय्येल क जरिये राजा क सपन क व्याख्या

24 एकरे पाछे दानिय्येल अयोर्क क लगे गवा। राजा नबूकदनेस्सर अयोर्क क बाबुल क बुध्दिमान मनइयन क हत्तिया बरे नियुक्त कीन्ह रहा। दानिय्येल अयोर्क स कहेस, “बाबुल क बुध्दिमान मनइयन क हत्तिया जिन करा। मोका राजा क लगे लइ चला, मइँ ओका ओकर सपना अउ उ सपना क फल बताउब।”

25 तउ अयोर्क दानिय्येल क हाली ही राजा क लगे लइ गवा। अयोर्क राजा स कहेस, “यहूदा क बन्दियन मँ मइँ एक अइसा मनई हेर लिहेउँ ह जउन राजा क ओकर सपना क मतलब बताइ सकत ह।”

26 तउ राजा दानिय्येल (बेलतसस्सर) स एक सवाल पूछेस, “का तू मोका मोर सपना अउ ओकर अरथ क बारे मँ बताइ सकत ह”

27 दानिय्येल जवाब दिहस, “हे राजा नबूकदनेस्सर, तू जउन रहस्स क बारे मँ पूछत अहा, ओका तोहका न तउ कउनो बुद्धिमान व्यक्ति न कउनो तान्त्रिक अउर न कउनो भविस्यवक्ता क बताइ सका ह। 28 किन्तु सरग मँ एक परमेस्सर अइसा अहइ जउन भेद भरी बातन क रहस्स बतावत ह। परमेस्सर राजा नबूकदनेस्सर क आगे क होइवाला अहइ, इ दर्सावइ बरे सपना दिहस ह। आपन बिछउना मँ सोते भए तू सपना मँ जउन बातन लखे रह्या, उ सबइ इ सब अहइँ, 29 हे राजा। तू अपने बिछउना मँ सोवत रह्या। तू भविस्स मँ घटइवाली बातन क बारे मँ सोचब सुरू किहेस। परमेस्सर लोगन क रहस्सपुर्ण बातन क बारे मँ बताइ सकत ह। तउ उ भविस्स मँ जउन घटइवाला अहइ, उ तोहका दर्साइ दिहस। 30 परमेस्सर उ रहस्स मोका भी बताइ दिहस ह। अइसा एह बरे नाहीं भवा कि मोरे लगे दूसर लोगन स कउनो जियादा बुद्धि अहइ। बल्कि मोका परमेस्सर इ भेद क एह बरे बताएस ह कि राजा क ओकर सपना क फल पता चल जाइ अउर इ तरह हे राजा, तोहरे मने मँ जउन बातन आवति अहइँ, ओनका तू समुझ जा।

31 “हे राजा, सपना मँ तू अपने समन्वा खड़ा एक ठु बिसाल मूरति लख्या ह, उ मूरति बहोत ब़ड़ी रही, उ चमकदार रही अउर प्रभाव स पूरी रही। इ देखइ मँ डराउनी रही। 32 उ मूरति क सिर सुद्ध सोना क बना रहा। ओकर छाती अउ सबइ भुजा चाँदी क बनी रहिन। ओकर पेट अउर जाँधन काँसा क बनी रहिन। 33 उ मूरति क गोड़न लोहा क बनी रहिन। उ मूरति क पैर थोड़ा लोहा अउ थोड़ा माटी क बने रहेन। 34 जब तू उ मूरति कइँती लखत रह्या, तउ तू एक ठु चट्टान लख्या जउन कउनो मनई क मेहनत क कटी रहेन अउर आइके मूरती क लोहे अउर मिट्टी क बनी गोड़न स टकरा गएन। उ चट्टान क कराण ओन मूतियन क गो़ड़ चकनाचूर होइ गएन। 35 फुन फउरन ही लोहा, माटी, काँसा, चाँदी अउ सोना सब चूर-चूर होइ गवा अउ उ चूरा गमिर्यन क दिनन मँ खरिहाने क भूसा जइसा होइ गवा। ओन टूकन क हवा उड़ाइ लइ गइ। हुआँ कछू भी तउ नाहीं बचा। कउनो इ नाहीं कहि सकत रहा कि हुआँ कबहुँ मूरति रही भी। फुन उ चट्टान जउन मूरति स टकराइ रही, एक बिसाल पर्वत क रूप मँ बदल गइ अउ सारी धरती पइ छाइ गइ।

36 “आपका सपना तउ इ रहा। अब हम राजा क इ बतावत अही कि इ सपना क फल का अहइ? 37 हे राजा, आप बहोत जियादा महत्वपूर्ण राजा अहइँ। सरग क परमेस्सर तोहका राज्ज दिहे सह। सक्ति दिहेस ह। सामरथ अउ महिमा दिहस ह। 38 आप क परमेस्सर नियन्त्रण क सक्ति दिहेस ह अउर आप, लोगन पइ, बन क पसुअन पइ अउ पंछियन पइ सासन करत अहा। उ सबइ चाहे कहूँ भी रहत होइँ, ओन सबन पइ परमेस्सर तोहका सासक ठहराएस ह। हे राजा नबूकदनेस्सर, उ मूरति क ऊपर जउन सोने क मू़ँड़ रहा, उ आप ही अहइँ।

39 “आप क पाछे जउन दूसर राजा आई, उहइ उ चाँदी क हीसां अहइ। किन्तु उ राज्ज तोहरे राज्ज क समान बिसाल नाहीं होइ। एकरे पाछे धरती पइ एक तीसर राज्ज क सासन होइ। उहइ उ काँसे वाला भाग अहइ। 40 एकरे पाछे एक चउथा राज्ज आइ, उ राज्ज लोहा क समान मजबूत होइ। जइसे लोहे स वस्तुअन टूटिके चकनाचूर होइ जात ही, वईसे ही चउथा राज्ज दूसर राज्जन क भंग कइके चकनाचूर करी।

41 “तू लखे रह्या कि उ मूरति क गो़ड़न अउर पंजे थो़ड़े माटी क अउर थोड़े लोहे क बना अहइँ, ओकर मतलब इ अहइ कि उ चउथा राज्ज एक ठु बटा भवा राज्ज होइ। एहमाँ कछू लोहा क सक्ति होइ काहेकि तू माटी मिला लोहा लख्या ह। 42 उ मूरति क गोड़न क पंजे क अगले हींसा जउन थोड़ा लोहा अउ थोड़ा माटी क बना रहेन, एकर अरथ इ अहइ कि उ चउथा राज्ज थोड़ा तउ लोहा क समान सक्तिसाली होइ अउर थोड़ा माटी क समान दुर्बल। 43 आप लोहा क माटी स मिला भवा लखे रह्या किन्तु जइसे लोहा अउ माटी पूरी तरह कबहुँ आपुस मँ नाहीं मिलतेन, उ चउथे राज्ज क लोग वइसे ही मिले जुले होइहीं। किन्तु एक जाति क रूप मँ उ सबइ लोग आपुस मँ एक जुट नाहीं होइहीं

44 “चउथे राज्ज क ओन राजा लोगन क समय मँ ही सरग क परमेस्सर एक दूसर राज्ज क स्थापना कइ देइ। इ राज्ज क कबहुँ अन्त नाहीं होइ अउर इ सदा-सदा बना रही। इ एक अइसा राज्ज होइ जउन कबहुँ कउनो दूसर समूह क लोगन क हाथ मँ नाहीं जाइ। इ राज्ज ओन दूसर राज्ज क कुचर देइ। इ ओन राज्जन क बिनास कइ देइ। किन्तु उ राज्ज अपने आप सदा-सदा बना रही।

45 “हे राजा नबूकदनेस्सर, आपन पहाड़ स उखड़ी भइ चट्टान तउ लखेउँ। कउनो मनई उ चट्टान क उखाड़ेस नाहीं। उ चट्टान लोहा क, काँसा क, माटी क, चाँदी क अउर सोने क टूका-टूका कइ दिहे रहा। इ प्रकार स महान परमेस्सर आप क उ देखाएस ह जउन भविस्स मँ होइवाला अहइ। इ सपना सच्चा अहइ अउर आप सपना क इ व्याख्या पइ भरोसा कइ सकत हीं।”

46 एकरे पाछे राजा नबूकदनेस्सर दानिय्येल क निहुरिके नमस्कार किहेस। राजा दानिय्येल क बड़कई किहेस। राजा इ आग्या दिहेस कि दानिय्येल क सम्मानित करइ बरे एक भेंट अउ सुगन्ध प्रदान कीन्ह जाइ। 47 फुन राजा दानिय्येल स कहेस, “मोका निहचय पूर्वक गियान होइ गवा ह कि तोहार परमेस्सर सब स जियादा महत्वपूर्ण अउ सक्तिसाली परमेस्सर अहइ। उ सबहिं राजा लोगन क परमेस्सर अहइ। उ लोगन क ओन बातन क बारे मँ बतावत ह, जेनका उ पचे नाहीं जान सकतेन। मोका पता अहइ कि इ सच अहइ। काहेकि तू मोका भेद क इ सबइ गुप्त बातन क बताइ सका।”

48 एकरे पाछे उ राजा दानिय्येल क आपन राज्ज मँ एक बहोत महत्वपुर्ण पद प्रदान किहेस तथा राजा बहोत स बहुमूल्य उपहार भी दानिय्येल क दिहेस। नबूकदनेस्सर दानिय्येल क बाबुल क समूचे प्रदेस क सासक नियुक्त कइ दिहेस। अउ उ दानिय्येल क बाबुल क सबहिं पण्डितन क प्रधान बनाइ दिहेस। 49 दानिय्येल राजा स बिनति किहेस कि उ सद्रक, मेसक अउ अबेदनगो क बाबुल प्रदेस क महत्वपूर्ण हाकिम बनाइ देइँ। तउ राजा वइसा ही किहेस जइसा दानिय्येल चाहे रहा। दानिय्येल खुद ओन महत्वपूर्ण मनइयन मँ होइ गवा रहा जउन राजा क निअरे रहा करत रहेन।

Footnotes:

  1. दानिय्येल 2:2 कसदियन कसदी लोग ज्योतिस विद्या क उपयोग कइके व्याखिया बतावइ मँ माहिर होत रहेन।
Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version Copyright © 2005 World Bible Translation Center

  Back

1 of 1

You'll get this book and many others when you join Bible Gateway Plus. Learn more

Viewing of
Cross references
Footnotes