A A A A A
Bible Book List

एस्तेर 1Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

महारानी वसती क जरिये राजा क आग्या क उल्लंघन

इ ओन दिनन क बात अहइ जब छयर्स नाउँ क राजा राज्ज किया करत रहा। भारत स लईक कुस क एक सो सत्ताईस प्रन्तन पइ ओनकर रज्ज रहा। महारजा छयर्स, सुसन नाउँ क नगरी, जउन राजधानी भवा करत रही,मँ अपने सिहासन स ससान चलावा करत रहा।

अपने सासन क तीसरे बरिस मँ, छयर्स अपने अधिकरियन अउ मुखिया लोगन बरे एक भोज क प्रबध किहेस। फारस, अउ मादै क फउज क मुखियन अउर दुसर महत्तपूर्ण मुखियन अउर प्रन्तीय अधिकारियन उ भोज मँ मौजुद रहेन। इ भोज ऐक सौ अस्सी दिन तलक चला। इ समइ क दौरन, महारजा छयर्स अपने राज क महान सम्पत्ति अउ आपनी महानता क भब्य सुन्दारता देखावत रहा। एकरे पाछे जब एक सौ अस्सी दिन क इ भौज समाप्त भवा, तउ महारजा छयर्स एक ठु अउर भौज दिहेस जेहमाँ सुसा क जिला महल क सबहि लोगन साथ ही महत्यपूर्ण अउ बे-महत्वपूर्ण लोगन बोल गवा रहा। इ भोज सात दिन तालक चला। इ भोज क आयोजन महल क भतीरी बगीचे मँ कीन्ह गवा रहा। भोज क जगह सफेद अउ नीले रंग क मलमल सूती कपड़न स सजावा ग रहा। इ बैगनी रंग की डोरियन स पकड़ा रहा। उ संगमर क खम्भन क बीच मँ चाँदी क छड़न दुआरा पर लटकत रहा। हुवाँ सोने अउ चाँदी क चौकियन रहिन। इ सबइ चौकियन लाल अउ सफेद रंग क अइसी स्फटिक क भूमितल मँ जुड़ी भई रहिन जेहमाँ संगमरमर, प्रकेलास, सीप अउर दूसर कीमती पाथर जड़े रहेन। सोने क पियालन मँ दाखरस परोसा गवा रहा। हर पियाला एक दूसरे ल अलग रहा। महारजा क ओकर महान सम्पत्ति क अनुसार दाखरस परोसा गवा रहा। महारजा अपने सेवकन क आग्या दिहेस कि हर कउनो मेहमन क जेतना दाखरस उ चाहे ओतने दीन्ह जाइ।

राजा क महल मँ हा महारनी वसती भी महररुअन क एक ठु भोज दिहस।

10-11 भोज क सातएँ दिन, महारजा छयर्स दाखरस पिअइ क कारण मगन रहा। उ ओन सात हिजड़न क आग्या दिहस जउन ओकर सेवा किया करत रहेन। एन हिजड़न क नाउँ रहेन: गहूमान, बिजेता, हबौना, बिगता, अबगता, देतेर अउर कर्कस। महाराजा आपन सेवकन क आग्या किहेस उ पचे राजमुकुट धारण किए भए महारानी वसती क ओकरे लगे लिआवइँ। उ चाहत रहा कि उ मुखिया लोगन अउर महत्वपूर्ण लोगन क अपनी सुन्दारता देखाइ काहेकि उ फुरइ बहोत सुन्दर रही।

12 मुला उ सेवरन जब राजा क आदेस क बात महारानी वसती स कहेन तउ उ हुवाँ जाइ स मना कइ दिहस। राजा बहोत कोहाइ गवा अउर ओहे पइ क्रोध स जरइ लगा। 13-14 एह बरे महाराज इ ताज़ा घटना क बारे मँ अपने अनुभवी मनइयन स नेम अउ सज़ा क बारे सलाह लेत रहत रहेन। एनकर नाउँ रहेन: कर्सना, सेतार, अदमाता, तर्सीस, मेरेस, मर्सना अउर ममूकान। उ सबइ साताहुँ फारस अउर मादै क बहोत महत्वपूर्ण अधिकारी रहेन। एनके लगे राजा स मिलाइ क बिसेस अधिकार रहा। उ पचे राज्ज मँ सबन त उच्च अधिकारी रहेन। 15 राजा ओन लोगन स पूछेस, “महारनी वसती क संग का कीन्ह जाइ? इ बारे मँ नेम का कहत ह उ महाराजा छयर्स क मोर आग्या क माइन स मना कइ दिहस जेका हिजड़न ओकरे लगे लइ गए रहेन।”

16 एइ पइ दुसर अधिकारियन क उपस्थिति मँ महाराजा स ममुकन कहेस, “महारानी वसती अपराध किहस ह। महारानी महाराजा क संग-संग सबहिं मुखिया लोगन अउर महाराजा छयर्स क सबहिं प्रसन क लोगन क बिरुदूध अपराध किहेस ह। 17 मइँ अइसा एह बरे कहत हउँ कि दूसर मेहरुअन जउन महारानी वसती किहस ह, ओका जब सुनिहीं तउ उ पचे अपन भतारंन क आग्या मानब बंद कइ देइहीं, ‘महाराजा छयर्स महारानी वसती क अपन लगे लआवइ क आग्या दिहे रहा किन्तु उ आवह मना कइ दिहस।’

18 “आनु फारस अउ मादै क मुखिया लोगन क महेररुअन, रानी जउन किहे रही, सुनि लिहन ह अउर लखा अब उ सबइ मेहररुअन भी जउन कछू महारानी किहस ह, ओहसे प्रभावित होइहीं। उ सबइ मेहररुअन राजा लोगन क महत्वपूर्ण मुखिया लोगन क संग वइसा ही करिहीं अउर इ तरह बहोत जियादा अनादर अउर किरोध फाइल जाइ।

19 “तउ जदि महाराजा क अच्छा लगइ तउ एक ठु सुआव इ अहइ: महाराजा क एक राजग्या देइ चाही अउर ओका फारस अउ मादै क नेम मँ लिख दीन्ह जाइ चाही एह बरे इ नेम ना ही बदला जाइ सकत ह या नही संसोधन कीन्ह जाइ सकत। राजा क आग्या इ होइ चाही: महाराजा छयर्स क समन्वा रानी वसती अब कबहूँ न आवइ। साथ ही महाराजा क रानी ़क पद भी कउनो अइसी मेहरारु क दइ देइ चाही जउन ओहसे उत्तिम होइ। 20 फुन जब राजा क इ आग्या ओकरे बिसाल राज्ज क सबहिं मँ धोसित कीन्ह जाइ, तउ सबहिं मेहररुअन अपने भतारन क आदर कइइ लगहीं,चाहे ओकर भातरन महत्वपूर्ण लोग अहइ या न अहइ।”

21 इ सुआव स महाराजा अउर ओकर बड़े-बड़े अधिकारी सबहीं खुस भएन। तउ महाराजा छयर्स वइसा ही किहस जइसा ममूकान सझाए रहा। 22 महाराजा छयर्स अपने राज्ज क सबहीं प्रान्तन मँ पत्रन पठइ दिहस। हर प्रान्त मँ जउन पत्रन पठवा गवा, उ उहइ प्रान्त क लिपि मँ लिखा गवा रहा। हर जाति मँ उ ओकरे भाखा मँ पत्रन पठइस। उपचे पत्रन मँ हरेक व्यक्ति क भाखा मँ धोसना कीन्ह ग रहेन कि हरेक मनई क आपन पररिवार नियंत्रन रखइ क होइ।

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version Copyright © 2005 World Bible Translation Center

  Back

1 of 1

You'll get this book and many others when you join Bible Gateway Plus. Learn more

Viewing of
Cross references
Footnotes