A A A A A
Bible Book List

उत्पत्ति 2Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

सतवाँ दिन—आराम

इ तरह धरती, अकास अउ ओकर हर एक चीज क रचब पूर होइ गवा। परमेस्सर आपन कीन्ह जात काम क पूरा कइ लिहेस। ऍह बरे सतएँ दिन परमेस्सर अपने काम मँ अराम किहेस। परमेस्सर सतएँ दिन क असीसेस अउ ओका पवित्र दिन बनइ दिहेस। परमेस्सर उ दिना क पवित्र दिन ऍह बरे बनएस कि संसार क बनवत समइ जउन उ काम करत रहा उ सबहि कामे स उ दिन उ अराम किहेस।

मनई जाति क सुरुआत

इ धरती अउ अकास क इतिहास अहइ। इ कथा उ चिजियन क अहइ, जउन परमेस्सर क जरिये धरती अउ अकास बनवत टेम प भइन, तब धरती प कउनो बृच्छ पौधा नाही रहा। अउ खेतन मँ कछू भी नाही उगत रहा। काहेकि यहोवा तब तलक धरती प बरखा नाही पठए रहा अउ बृच्छ पौधन क देखइ भालइ वाला कउनो मनइ भी नाही रहा।

मुला कुहिरा भुइँया स उठत रहा अउ पानी समूचइ धरती क सींचत रहा। तब यहोवा परमेस्सर भुइँया स धूरि उठाएस अउ मनई क बनएस। यहोवा मनई क नाके मँ जिन्नगी क साँस फूँकेस अउ मनई एक ठु जिअत परानी बन गवा। फुन यहोवा परमेस्सर पूरब मँ अदन नाउँ क ठउरे मँ एक बाग लगाएस। यहोवा परमेस्सर आपन बनावा भवा मनई क इहइ बगिया मँ राखेस। यहोवा परमेस्सर हर एक सुन्नर बृच्छ अउ खइया बरे सबहि किसिम क नीक बृच्छ क उ बगिया मँ उगाएस। बगिया क बिचउ बीच यहोवा परमेस्सर जिन्नगी क बृच्छ क धरेस अउ उ बृच्छ क भी राखेस जउन अच्छाई अउ बुराई क जानकारी देत रहा।

10 अदन स होइके एक ठु नदी बहत रही अउ उ बाग क सींचत रही। उ हुवाँ स अगवा जाइके चार ठु नान्ह नान्ह धारा मँ बदल गइ रही। 11 पहिली नदी क नाउँ पीसोन रहा। इ नदी हवीला पहटा क चारिहु कइँती बहत रही। 12 (उ पहटा मँ सोना अहइ अउ उ सोना नीक बाटइ। मोती अउर गोमेदक रतन उ पहटा मँ अहइँ।) 13 दूसरी नदी क नाउँ गीहोन अहइ जउन इथोपिया देस क चारो तरफ बहत ह। 14 तीसरी नदी क नाउँ दजला बा। इ नदी अस्सूर क पूरब मँ बहत ह। चउथी नदी फरात अहइ।

15 यहोवा परमेस्सर मनई क अदन क बाग मँ रखेस। मनई क काम पेड़-पौधा लगाउब अउ बगिया क रखवारी करब रहा। 16 यहोवा परमेस्सर मनई क हुकुम दिहेस। यहोवा परमेस्सर कहेस, “तू बगिया क कउनो भी बृच्छ स फल खाइ सकत ह। 17 मुला तू नीक अउ खोट क गियान देइवाला बृच्छ क फल नाही चख सकत ह। अगर तू उ बृच्छ क फल लेब्या तउ तू मरि जाब्या।”

पहिली मेहरारू

18 तब यहोवा परमेस्सर कहेस, “मनई क अकेले रहब नीक नाही। मइँ ओकरे तरह एक मनई ओका मदद बरे बनउब।”

19 यहोवा परमेस्सर धरती क हर एक जनावर अउ अकासे क हर पंछी क भुइँया क माटी स बनएस। यहोवा परमेस्सर इ सबहि जीउन क मनई क समन्वा लइ आवा अउ मनई हर एक क नाउँ राखेस। 20 मनई पालतू गोरु, अकासे क सब पंछिन अउ जंगल क सबहि जनावर क नाउँ रखेस। मनई ढेर क जनावर अउ पंछिन क लखेस। मुला मनई कउनो अइसा मदद करइया नाही पाइ सका जउन ओकरे जोग्ग होइ। 21 ऍह बरे यहोवा परमेस्सर मनई क गहरी नींदे मँ सुवाइ दिहेस अउ जब उ सोवत रहा: यहोवा परमेस्सर मनई क तन स एक पसुली निकारी लिहस। तब यहोवा मनई क चाम क बन्द कइ दिहस जहा स उ पसुली निकारे रहा। 22 यहोवा परमेस्सर मनई क पसुली स मेहरारू क बनएस। तब यहोवा परमेस्सर मेहरारू क मनई क लगे लिआवा। 23 अउर मनई कहेस,

“आखिर मँ! हमरे तरह एक मनई।
    ऍकर हाड़ मोरे हाड़ मँ स आवा
    ऍकर तन मोरे तन स आवा।
कोहेकि इ मनई स निकारी गइ,
    बरे मइँ ऍका ‘मेहरारू’ कह्ब।”

24 इहइ कारण स मनई आपन महतारी-बाप क तजिके आपन मेहरारू क संग रही अउ उ दुइनउँ एक तन होइ जइहीं।

25 मनई अउ ओकर मेहरारू बगिया मँ नंगा रहेन: मुला उ पचे लजात नाहीं रहेन।

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version Copyright © 2005 World Bible Translation Center

  Back

1 of 1

You'll get this book and many others when you join Bible Gateway Plus. Learn more

Viewing of
Cross references
Footnotes