A A A A A
Bible Book List

अय्यूब 41Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

अय्यूब क यहोवा बरे जवाब

41 “अय्यूब बतावा, का तू लिब्यातान क कउनो मछरी क काँटा स धइ सकत ह
    का तू एकर जिभ क रसी स बंध सकत ह?
अय्यूब, का तू लिव्यातान क नाक मँ नकेल डाइ सकत हया
    ओकरे जबड़न मँ काँटा फँसाइ सकत ह
अय्यूब, का तू लिव्यातान क अजाद होइके बरे तोहसे बिनती करी?
    का उ तोहसे मीठी मीठी बातन करीं?
अय्यूब, का तू लिब्यातान तोहसे सन्धि करी
    अउर सदा तोहरी सेवा क तोहका वचन देइ?
अय्यूब, का तू लिब्यातान क वइसे ही खेलब्या जइसे तू कउनो चिड़िया स खेलत ह
    का तू ओका रस्सा स बँधब्या जेहसे तोहार दासियन ओहसे खेल सकइँ।
अय्यूब, का तू मछुआरा लिब्यातान क तोहसे बेसहइ क कोसिस करिहीं?
    का उ पचे ओका कटिहीं अउर ओनका बइपारियन क हाथे बेचि सकहीं?
अय्यूब, का तू लिब्यातान क खाल मँ अउर माथे पइ भाला फेंक हमला कइ सकत ह?

“अय्यूब, लिब्यातान पइ अगर तू हाथ डावा तउ जउन भयंकर जुदध होइ,
    तू कबहुँ भी बिसाहि नाहीं पउब्या अउर फुन तू ओहसे कबहुँ जुदध न करब्या।
अउर अगर तू सोचत ह कि तू लिब्यातान क पकड़ सकत ह, तउ इ बात क तू भूल जा।
    काहेकि ओका पकड़इ बरे कउनो आसा नाहीं अहइ।
    तू तो बस ओका लखइ भर सही डेराइ जाब्या।
10 कउनो भी एतना वीर नाहीं अहइ,
    जउन लिब्यातान क जगाइके भड़कावइ।

“तउ फुन अय्यूब बतावा, मोरे विरोध मँ कउन टिक सकत ह!
11 कउनो भी मनई जउन कि मोहे स मुकाबला करह उ सुउच्छित नाहीं रब्या।
    सारे अकासे क खाले जउन कछू भी अहइ, उ सब कछू मोर ही अहइ।

12 “अय्यूब मइँ तोहका लिब्यातान क सक्ती क बारे मँ बताउब।
    मइँ ओकर सक्ती अउर रुप क सोभा क बारे मँ बताउब।
13 कउनो भी मनई ओकर बाहरी आवरण (खाल) क भेद नाहीं सकत।
    ओकर खाल दोहरी कवच क नाई अहइ।
14 लिव्यातान क कउनो भी मनई मुँह खोलइ बरे मजबूर नाहीं कइ सकत ह।
    ओकरे भी जबडे क दाँत सबहिं क भयभीत करत हीं।
15 लिव्यातान क पिठिया पइ ढालन क कतार होत हीं,
    जउन आपुस मँ जुड़ी होत हीं।
16 इ सबइ ढालन आपुस मँ एँतनी सटी होत हीं
    कि हवा तलक ओहमाँ प्रवेस नाहीं कइ पावत ह।
17 इ सबइ ढालन एक दूसर स जुड़ी होत हीं।
    उ सबइ मजबूती स एक दूसरे स जुड़ी भई अहइ कि कउऩो भी ओनका उखाड़िके अलग नाहीं कइ सकत।
18 लिव्यातान जब छींकत ह तउ अइसा लागत ह जइसे बिजली सी कौधं गइ होइ।
    आँखी ओकर अइसी चमकत हीं जइसे कउनो तेज प्रकास होइ।
19 ओकरे मुँहना स बरत भइ मसान निकरत हीं,
    अउर ओहसे आगी क चिनगारियन बिखत हीं।
20 लिब्यातान क नथुनन स धुआँ अइसा नकरत ह,
    जइसे उबलत भइ हाँड़ी स भाप निकलत होइ।
21 लिब्यातान क फूँक स कोयला सुलग उठत हीं
    अउर ओकरे मुँहे स लपक निकरत हीं।
22 लिब्यातान क गटई बड़ी जबरदस्त अहइ,
    अउर लोग ओसे उरिके दूर पराइ जात हीं।
23 ओकरे खाल मँ कहीं भी कोमल जगह नाहीं अहइ।
    उ लोहा क तरह कठोर अहइ।
24 लिब्यातान क हिरदइ चट्टान क तरह होत ह।
    ओकर हिरदइ चक्की क नीचे क पाट क तरह सख्त अहइ।
25 लिब्यातान स सरगदूत भी डर जात हीं।
    लिब्यातान जब पूँछ फटकारत ह, तउ ओन सबइ भाग जात हीं।
26 लिब्यातार पइ जइसे ही भालन,
    तीर अउ तरवार पड़त हीं उ सबइ उछरिके दूर होइ जात ह।
27 लोहा क मोटी छड़न क उ तिनका जइसा
    अउर काँसा क सड़ी लकड़ी क तरह तोड़ देत ह।
28 बाण लिब्यातान क नाहीं भगाइ पावत हीं।
    ओह पइ पाथर फेंकना, एक सुखा तिन्का फेंकन क नाई अहइ।
29 लिब्यातान पइ जब मुगदर पड़त ह तउ ओका अइसा लागत ह माना उ कउनो बिनका होइ।
    जब लोग ओह पइ भालन फेंकत हीं, तब उ हँसा करत ह।
30 विब्यातान क पेट क नीचे सिरा टूटा भए मट्टी क बासन क नाई तेज अहइ।
    जब उ चलत ह तउ कीचड़ मँ अइसा निसान छोड़त ह माना कि खेतन मँ हेगा लगावा गवा होइ।
31 लिब्यातान पानी क अइसे मथत ह, माना कउनो हाड़न उबलत होइँ।
    उ अइसे बुलबुले बनावत ह माना बासन मँ खउलत भवा तेल होइ।
32 लिब्यातान जब सागर मँ तैरत ह तउ आपन पीछे उ सफेद झागन जइसी राह छोड़त ह,
    जइसे कउनो उज्जर बारे क सफेद बिसाल पूँछ होइ।
33 लिब्यातान सा कउनो अउर जन्तु धरती पइ नाहीं अहइ।
    उ अइसा पसु अहइ जेका निडर बनावा गवा।
34 उ हर एक घमण्डी जानेबर क ऊपर नजर रखत ह
    सबहिं जंगली पसुअन क उ राजा अहइ।”

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version Copyright © 2005 World Bible Translation Center

  Back

1 of 1

You'll get this book and many others when you join Bible Gateway Plus. Learn more

Viewing of
Cross references
Footnotes