A A A A A
Bible Book List

1 समूएल 17Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

गोलियत इस्राएल क ललकारत ह

17 पलिस्तियन आपन फउज लड़ाई बरे बटोरेन। उ पचे यहूदा मँ बसा सोको मँ जुद्ध बरे एकट्ठा भएन। ओनकइ डेरा। सोको अउ अजेका क बीच एपेसदम्मीन नाउँ क सहर मँ रहा।

साऊल अउ इस्राएली सिपाही भी हुवाँ एक संग जमा भएन। ओनकइ डेरा एला क घाटी मँ रहा। साऊल क फउजी मोर्चा प तैनात पलिस्ती स जुद्ध करइ बरे तैयार रहेन पलिस्ती एक पहाड़ी प रहेन अउ इस्राएली दूसर पहाड़ी प अउर ओकर क बीच मँ घाटी रही।

पलिस्तियन मँ एक बरिआर जोध्दा रहा। गोलियत गत से रहा। गोलियत लगभग नौ फीट ऊँचा रहा। गोलियत पलिस्ती डेरा स बाहेर आवा। ओकरे मूँड़े प काँसा का टोपा रहा। उ पट्टीधारी कवच क कोट पहिरे रहा। इ कवच काँसे क बना रहा अउर एकर तौल करीब एक सौ पच्चीस पौण्ड रहा। गोलियत आपन गोड़े मँ काँसा क रच्छा कवच पहिरे रहा। ओकरे लगे काँसा का भाला रहा जउन ओकरी पीठी प बाँधा रहा। गोलियत क भाला क फाल जुलाहे क छड़ क तरह रहा। भाला क फाल क तौल पन्द्रह पौण्ड रही। गोलियत क सहायक गोलियत क ढाल क धरे भए ओकरे आगे आगे चलत रहा।

गोलियत रोज रोज बाहेर निकरत रहा अउ उ इस्राएली फउजियन कइँती गोहराइके कहत रहा, “तोहार सब फउजी लड़ाई बरे मोर्चा काहे लगाए बाटेन? तू पचे साऊल क सेवक अहा। मइँ एक पलिस्ती हउँ। ऍह बरे कउनो एक मनई क चुना अउ ओका मोसे लड़इ क पठवा। जदि उ मनई मोका मारि डावत ह तउ हम पलिस्ती तोहार गुलाम होइ जाब। मुला जदि मइँ ओका जीत लिहेउँ अउ तोहरे मनई क मारि डावउँ तउ तू सबइ हमार दास होइ जाया। तब तू पचे हमार सेवा करब्या।”

10 पलिस्ती इ भी कहेस, “आजु मइँ खड़ा हउँ अउ इस्राएल क फउज क मसखरी उड़ावत हउँ। मोका आपन मँ स एक क संग लड़इ द्या।”

11 गोलियत जउन कहे रहा ओका साऊल अउ इस्राएली फउजी सुनेन अउर उ पचे बहोत ससाइ गएन।

दाऊद क लड़ाई क मैदान जाब

12 दाऊद यिसै क पूत रहा। यिसै एप्राती परिवार स यहूदा बेतलेहम स रहा। यिसै क आठ पूत रहेन। साऊल क टेम मँ यिसै एक बुढ़वा मनई रहा। 13 यिसै क तीन बड़का पूत साऊल क संग जुद्ध मँ गवा रहेन। पहिला पूत एलीआब रहा। दूसर पूत अबिनादाब रहा। अउर तीसर पूत सम्मा रहा। 14 दाऊद सबसे छोटा बेटवा रहा। तीनउँ बड़े बेटवन साऊल क फउज मँ रहेन। 15 मुला दाऊद कबहुँ कबहुँ बेतलेहेम मँ आपन पिता क भेड़ी क रखवारी करइ बरे साऊल क लगे स चला जात रहा।

16 पलिस्ती गोलियत हर रोज भिन्सारे-साँझ क बाहेर आवत रहा अउ इस्राएल क फउज क समन्वा खड़ा होइ जात रहा। गोलियत चालीस दिन तलक इ तरह इस्राएल क मसखरी उड़ावत रहा।

17 एक दिना यिसै आपन पूत दाऊद स कहेस, “पका भवा दाना क इ टोपा अउ इ दस रोटी क डेरा मँ आपन भाई लोगन क लगे लइ जा। 18 पनीर क इ दस लोंदा क भी एक हजार सिपाहियन वाली आपन भाई क टुकड़ी क नायक अफसर क लगे लइ जा। लखा कि तोहार भाई कइसे अहइँ। कछू अइसा साच्छी लावा जेसे मोका पता लागइ कि तोहार भाई ठीक-ठाक बाटेन। 19 तोहार भाई साऊल क संग अहइँ अउ इस्राएल क सब फउजी एला घाटी मँ जमा अहइँ। उ पचे पलिस्ती क खिलाफ लड़त अहइँ।”

20 भोर होत भिन्सारे दाऊद भेड़ी क रखवारी दूसर गड़रिया क सौंपेस। दाऊद खइया क खाएस अउ हुवाँ बरे चल पड़ा जहाँ खातिर यिसै कहे रहा। दाऊद आपन गाड़ी क डेरा मँ लइ गवा। उ समइया फउजी आपन लड़ाइ मँ मोर्चा थामइ जात रहेन जब दाऊद हुवाँ पहुँचा। फउजी आपन जुद्ध क बिगुल बजावइ लागेन। 21 इस्राएल अउ पलिस्ती आपन-आपन मनइयन क जुद्ध मँ एक दूसर स भिड़इ बरे पंक्ती-बध करत रहेन।

22 दाऊद भोजन अउ चीजन क उ मनई क लगे तजि दिहेस जउन सामान क बाँटत रहा। दाऊद पराइके उ ठउरे प पहोंचा जहाँ इस्राएली फउजी रहेन। दाऊद आपन भाइयन क बारे मँ पूछेस। 23 दाऊद आपन भाइयन क संग बात करब सुरु किहेस। उहइ टेम पलिस्ती सबन त बरिआर जोधा जेकर नाउँ गोलियत रहा अउर जउन गथ क बसइया रहा, पलिस्ती फउज स बाहेर आवा। पहिले क तरह गोलियत इस्राएल क खिलाफ उहइ बात नरियाइके कहेस।

24 इस्राएली फउजी गोलियत क लखेन अउर पराइ गएन काहेकि उ लोगन बहोत डरे भवा रहा। 25 इस्राएली मनइयन मँ स एक कहेस, “अरे देसबासियो! तोहमाँ स कउनो लखेस ह जउन बार-बार इस्राएल क हँसी उड़ावत ह। जउन कउनो उ मनई क मार देइ धनी होइ जाइ। राजा साऊल ओका बहोत धन देइ। साऊल आपन बिटिया क उ मनई स बीहि देइ जउन गोलियत क मार देइ। अउर साऊल उ व्यक्ति क परिवार क इस्राएल मँ अजाद कइ देइ।”

26 दाऊद आपन बगली खड़ा मनई स पूछेस, “उ का कहेस? इ पलिस्ती क मारइ अउ इस्राएल क इ बेज्जती क दूर करइ क इनाम का अहइ? आखिर मँ इ गोलियत बाटइ का? सिरिफ इ एक बिदेसिया बा। गोलियत एक पलिस्ती स जियादा कछू नाहीं। उ काहे सोचत ह कि उ सोझइ परमेस्सर क फउज क खिलाफ बोल सकत ह?”

27 ऍह बरे इस्राएलियन गोलियत क मारइ क इनाम क बारे मँ बताएन। 28 दाऊद क बड़ा भाई एलीआब दाऊद क फउजी स बात करत सुनेस। एलीआब दाऊद प कोहाइ गवा। एलीआब दाऊद स पूछेस, “तू हिआँ काहे आया? रेगिस्तान मँ उ थोड़ी स भेड़ी क केकरे लगे तजिके आया ह? मइँ जानत हउँ कि तू हिआँ काहे आया ह? तू उ करब नाहीं चाहत्या जउन तोहसे करइ क कहा गवा रहा। तू सिरिफ हिआँ जुद्ध लखइ बरे आवइ चाहत बाट्या।”

29 दाऊद कहेस, “अइसा मइँ का किहेउँ ह? मइँ कउनो गलती नाहीं किहेउँ ह। मइँ सिरिफ बात करत रहेउँ।” 30 दाऊद दूसर मनइयन कइँती मुड़ा अउ ओनसे उ सबइ सवाल किहेस। उ पचे दाऊद वइसे ही जवाब दिहेन।

31 कछू मनइयन दाऊद स बात करत सुनेन। उ पचे दाऊद क बारे मँ साऊल स कहेस। साऊल हुकुम दिहेस कि उ पचे दाऊद क ओकरे लगे लइ आवइँ। 32 दाऊद साऊल स कहेस, “कउनो मनई क ओकरे कारण हिम्मत हारइ जिन द्या। मइँ आपक सेवक हउँ। मइँ इ पलिस्ती स लड़इ जाब।”

33 साऊल जवाब दिहेस, “तू फिलिस्तीन क खिलाफ जुद्ध मँ नाहीं जाइ सकत्या। तू अबहुँ छोटा बच्चा बाट्या। गोलियत जब बच्चा रहा, तबहिं स जुद्ध मँ लड़त रहा।”

34 मुला दाऊद साऊल स कहेस, “मइँ आपक सेवक अहउँ। अउर मइँ आपन बाप क भेड़ी क रखवारी भी करत रहेउँ ह। जदि कउनो सेर या रीछ आवत अउ झुण्ड स कउनो भेड़ी क उठाइ लइ जात। 35 तउ मइँ ओकर पाछा करत रहेउँ। मइँ आपन भेड़ी क बचावइ बरे उ जंगली जनावर प हमला करत रहेउँ अउ ओका मारत रहेउँ। अउर जदि उ मोर तरफ मुड़तेन अउर मुझ पइ हमला करतेन तउ मइँ ओकर गरदन क नीचे क बार पकड़तेन अउर मातेन अउर ओका मरि डालतेन। 36 मइँ एक सेर अउ एक ठु रीछ क मारेउँ ह। मइँ इ विदेसी गोलियत क वइसे मार डाउब। गोलियत मरी, काहेकि उ साच्छात परमेस्सर क फउज क मसखरी किहेस ह। 37 यहोवा मोका सेर अउ रीछ स बचाएस ह। यहोवा इ पलिस्ती गोलियत स भी मोर रच्छा करिहीं।”

साऊल दाऊद स कहेस, “जा यहोवा तोहरे संग होइँ।” 38 साऊल आपन ओढ़ना दाऊद क पहिराएस। साऊल एक काँसा क टोप दाऊद क सिर प धरेस अउ ओकरे तन प कवच पहिराएस। 39 दाऊद तरवार क लिहेस अउ ओका कवच पइ बाँधेस अउर चलइ क कोसिस किहेस, मुला उ उस भारी भरकम कवच क लेकर चल नाहीं सकत काहेकि उ ओन भारी चीजन क पहिरइ क आदत नाहीं रही।

दाऊद साऊल स कहेस, “मइँ इ चीजन्क संग नाहीं लड़ सकत्या। मोर आदत ओनके बरे नाहीं बा।” ऍह बरे दाऊद ओन सबन क उतार दिहस। 40 दाऊद आपन टहरइ क छड़ी आपन हाथे मँ लिहस। नदी क तले स दाऊद पाँच चीकन पाथर चुनेस। उ ओन पाथरन क आपन गड़रियावाला झोरी मँ राखेस। उ आपन गोफना (गुलेल) आपन हाथे मँ लिहस अउर उ पलिस्ती गोलियत स मिलइ चल पड़ा।

दाऊद गोलियत क मारत डावत ह

41 पलिस्ती गोलियत धीमे धीमे दाऊद क नगिचे अउर नगिचे स नगिचे होत गवा। गोलियत क सहायक ओकर ढाल लइके ओकरे आगे चलत रहा। 42 गोलियत दाऊद क निहारेस अउ हँसा। गोलियत लखेस कि दाऊद फउजी नाहीं बा। उ सिरिफ लाल बारेवाला जवान लरिका अहइ। 43 गोलियत दाऊद स कहेस, “इ छड़ी काहे बरे बाटइ? का तू कूकुर क नाई मोर पाछा कइके मोका भगावइ आवा बाट्या।” तब गोलियत आपन देवतन क नाउँ लइके दाऊद क खिलाफ सरापेस। 44 गोलियत दाऊद स कहेस, “हिआँ आवा, मइँ तोहरे तने क पंछी अउ पसू क खियाइ देब।”

45 दाऊद पलिस्ती गोलियत स कहेस, “तू मोरे लगे तरवार, बछीर् अउ भाला चलावइ आवा अहा। मुला मइँ तोहरे लगे इस्राएल क फउज क परमेस्सर सर्वसक्तीमान यहोवा क नाउँ प आवा हउँ। तू ओनके खिलाफ बुरी बात कहया ह। 46 आजु यहोवा तोहका मोसे हराइ देइहीं। मइँ तोहका मारि डइहउँ। आजु मइँ तोहार मूँड़ कटिहउँ अउ तोहरे देह क पंछी अउ जंगली जनावर क खियाइ देइहउँ। हम पचे दूसर पलिस्तियन क संग हिअँइ करब। तब्बइ समूचइ संसार जानी कि इस्राएल मँ परमेस्सर बा। 47 हिआँ बटुरा सबहिं मनइयन जनिहइँ कि मनइयन क रच्छा बरे यहोवा क तरवार अउ भाला क सरोकार नाहीं। जुद्ध यहोवा क बा। अउर यहोवा तू सबहिं पलिस्तियन क हरावइ मँ हमार मदद करी।”

48 पलिस्ती गोलियत दाऊद प हमला करइ ओकरे लगे आवा। दाऊद गोलियत स भिड़इ तेजी स दउड़ा।

49 दाऊद एक पाथर आपन झोरी स निकारेस। उ ओका आपन गोफना प चढ़ाएस अउ ओका चलाएस अउ उ गोलियत क कपाल प चोट किहेस। पाथर ओकरे कपाल मँ गहिर घुसि गवा अउ गोलियत मुँहे क बल गिर पड़ा।

50 इ तरह दाऊद एक गोफना अउ एक पाथर स पलिस्ती क हराइ दिहस। उ पलिस्ती प चोट किहेस अउ ओका मार डाएस। दाऊद क लगे कउनो तरवार नाहीं रही। 51 ऍह बरे, दाऊद दउड़ा अउ पलिस्ती क बगल मँ खड़ा होइ गवा। दाऊद ओका खुद क तरवार ओकरी मियान स निकारेस अउर ओसे गोलियत क मूँड़ क ओकर सरीर स अलग कइ दिहस। इ तरह उ ओका मारेस।

जब दूसर पलिस्तियन लखेन कि ओनकइ फउज क प्रमुख मारा गवा अहइ तउ उ पचे मुड़ेन अउ भाग गएन। 52 इस्राएल अउ यहूदा क फउजी सिपाही चिचियाएन अउ पलिस्तियन क पाछा पलिस्तियन क गत सहर क चउहद्दी तलक अउ एक्रोन क फटके तलक किहेस। उ पचे ढेर पलिस्तियन क मारेन। ओनकइ ल्हास सारैंम सड़क प गत अउर एक्रोन कइँती बिछ गएन। 53 पलिस्तियन क पाछा करइ क पाछे इस्राएली पलिस्तियन क डेरा मँ लौटेन। इस्राएली उ डेरा स बहोत स चीज ढोइ लइ गएन।

54 दाऊद पलिस्ती प्रमुख गोलियत क मूँड़ यरूसलेम लइ गवा। दाऊद पलिस्तियन क औजार क अपने लगे तम्बू मँ राखेस।

साऊल दाऊद स डेराइ लाग

55 साऊल दाऊद क गोलियत स लड़इ बरे जात निहारे रहा। साऊल सेनापति अब्नेर स बात किहेस, “अब्नेर, उ नउजवान क बाप कउन अहइ?”

अब्नेर जवाब दिहेस, “महाराज, मइँ किरिया खाइके कहत हउँ-मइँ नाहीं जानत।”

56 राजा साऊल स कहेस, “पता लगावा कि उ नउ जवान क पिता कउन अहइ।”

57 जब दाऊद गोलियत क मारे क पाछे लउटा तउ अब्नेर ओका साऊल क लगे लइ आवा। दाऊद तब भी फिलिस्तीनी क मूँड़ हाथे मँ धरे रहा।

58 साऊल ओसे पूछेस, “जवान मनई तोहार पिता के अहइँ?”

दाऊद जवाब दिहस, “मइँ आप क सेवक बेतलेहेम क यिसै क पूत हउँ।”

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version Copyright © 2005 World Bible Translation Center

  Back

1 of 1

You'll get this book and many others when you join Bible Gateway Plus. Learn more

Viewing of
Cross references
Footnotes