A A A A A
Bible Book List

1 समूएल 14Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

योनातान पलिस्तियन प हमला करत रहेन

14 उ दिना, साऊल क पूत उ नउजवान स बात किहेस जउन ओकरे औजारन क लइके चलत रहा। योनातान कहेस, “हम पचे घाटी क दुसरी कइँती पलिस्तियन क डेरा प चली।” मुला योनातान आपन बाप क नाहीं बताएस।

साऊल एक अनार क पेड़ क नीचे पहाड़ी क सिरे प मिग्रोन मँ बइठा रहा। इ एक ठउर प खरिहान क नगिचे रहा। साऊल क संग उ समइ 600 जोधा रहेन। एक मनई क नाउँ अहिय्याह रहा। एली सीलो मँ यहोवा क याजक रहा। अब अहिय्या याजक रहा। अहिय्या अब एपोद याजक रहा। अहिय्या ईकाबोद क भाई अहीतूब क पूत रहा।

ईकाबोद पीनहास क पूत रहा। पीनहास एली क पूत रहा। दर्रा क दुइनउँ कइँती एक ठु बड़की चट्टान रही। योनातान पलिस्ती डेरा मँ उ दर्रा स जाइ क तजबीजेस। बड़की चट्टान क एक कइँती बोजज रहा अउर उ बड़की चट्टान क दूसर कइँती सेने रहा। एक बड़की चट्टान उत्तर क मिकमास क देखत भइ ठाड़ रही। दूसर बड़की चट्टान दक्खिन कइँती गीबा क अउर लखत स ठाड़ रही।

योनातान आपन उ जवान मददगार स कहेस जउन ओकरे औजार क ढोइ के चलत रहा, “आवा, हम ओन बिदेसियन क डेरा मँ चली। इ होइ सकत ह यहोवा हम मनइयन क बइपरइ इ मनइयन क हरावइ मँ करइँ। यहोवा क कछू भी नाहीं रोक सकत ऍहसे कउनो फकर् नाहीं पड़त कि हमरे लगे ढेरि फउजी अहइँ कि तनिक फउजी।”

योनातान क अउजार ढोवइया जवान ओसे कहेस, “जेका तू सब स नीक समझा, करा। मइँ हर कइँती स तोहरे संग हउँ।”

योनातान कहेस, “हम सबइ क चलि द्या! हम पचे घाटी पार करब अउर ओन पलिस्ती रच्छक तलक जाबइ। तबहीं हम सबइ ओनका आपन क लखइ देब। जदि उ पचे हम स कहत हीं, ‘तू हुवँइ रुकि जा जब तलक हम तोहरे लगे आवत अही।’ तउ हम पचे हुवँइ ठहरब जहाँ हम होब। हम ओनके नगिचे न जाब। 10 मुला अगर पलिस्ती लोग इ कहत हीं, ‘हमरे लगे आवा’ तउ हम ओनकइ लगे ताई चढ़ जाब। काहे? काहेकि इ परमेस्सर कइँती स इ एक इसारा होइ। ओकर अरथ इ होइ कि यहोवा हम पचन क ओनका हरावइ देइ।”

11 ऍह बरे योनातान अउ ओकर सहायक आपन क पलिस्तियन स लखइ देइ दिहस। पलिस्ती रच्छक कहेन, “लखा, हिबू ओन बिलिन स निकरिके आवत बाटेन जेहमाँ उ सबइ लुकान रहेन।” 12 किला क पलिस्ती योनातान अउ ओकरे सहायक बरे चिचिआइँ, “हमरे लगे आवा। हम तोहका अबहीं पाठ पढ़ावत अही।”

योनातान आपन सहायक स कहेस, “पहाड़ी क ऊपर तलक मोका पछिआवा। यहोवा इस्राएल बरे पलिस्तियन क दइ दिहे बाटइ!”

13-14 ऍह बरे योनातान आपन हाथ अउ गोड़ क पहाड़ी प चढ़इ बरे बइपरेस। ओकर सहायक सोझ ओकरे पाछे चढ़ा। योनातान अउ ओकर सहायक पलिस्तियन क हराएन। पहिले हमला मँ उ पचे लगभग आधा एकड़ पहँटा मँ पलिस्तियन क मारेन। योनातान उ मनइयन स लड़ा जउन समन्वा स हमला बोलत रहेन। अउ योनातान क सहायक ओनकइ पाछे आवा अउ ओन मनइयन क मारत चला गवा जउन अबहीं सिरिफ चोटाइ होइ ग रहेन।

15 सबहिं पलिस्ती सिपाही जंग क मैदान मँ सिपाही अउ किला क सिपाही ससाइ गएन। हिआँ तलक कि सबन त बरिआर जोधा भी डेराइ गएन। धरती काँपइ लाग अउ पलिस्ती सिपाही भयानक तरीका स डेराइ गएन।

16 साऊल क रच्छक बिन्यामीन देस मँ गिबिया क पलिस्ती सिपाहियन क अलग-अलग दिसा मँ भागत परात लखेन। 17 साऊल आपन संग क सेना स कहेस, “सिपाहियन क गनती करा। मइँ इ जानइ चाहत हउँ कि डेरा क कउन छोड़ि दिहस।”

उ पचे सिपाहियन क गनेन। योनातान अउ ओकर सहायक चला ग रहेन।

18 साऊल अहिय्या स कहेस, “परमेस्सर क पवित्तर सन्दूख लइ आवा।” (उ टेमॅ परमेस्सर क पवित्तर सन्दूख इस्राएलियन क संग रही।) 19 साऊल याजक अहिय्या स बतियात रहा। साऊल परमेस्सर क परामर्स क जोहत रहा। मुला फिलिस्तीनी छावनी मँ सोर अउ धमाचउकड़ी लगातार बढ़त जात रही। साऊल धीरा खोइ चुका रहा। आखिर मँ साऊल याजक अहिय्या स कहेस, “बहोत होइ गवा। आपन हाथ नीचे हइँचा अउ पराथना करब बन्द करा।”

20 साऊल आपन फउज क बटोरेस अउर लड़ाई मँ चला गवा। पलिस्ती सिपाही बहोत उलझन मँ रहेन। उ सबइ आपन तरवारे स आपुस मँ ही एक दूसर स जुद्ध करत रहेन। 21 हुवाँ हिब्रू भी रहेन जउन ऍकरे पहिले पलिस्तियन क सेवा मँ रहेन अउर जउन पलिस्ती डरा मँ रुका रहेन। मुला अब उ हिब्रू लोग साऊल अउ योनातान क संग क इस्राएलियन क साथ दिहेन। 22 उ इस्राएलियन जउन एप्रैम क पहाड़ी देस मँ लुकान रहेन, पलिस्ती सिपाहियन क पराइ क बात सुनेन। तउ इ इस्राएलियन भी जुद्ध मँ साथ दिहन अउ पलिस्तियन क पाछा करब सुरु किहेन।

23 इ तरह यहोवा उहइ दिन इस्राएलियन क बचाव किहेन। जुद्ध बेतावेन क बाहेर फैलि गवा। सारी फउज साऊल क संग रही, ओनकइ लगे लगभग दस हजार मनईयन रहेन। एप्रैम क पहाड़ी पहँटा क हर सहर मँ जुद्ध फइलत गवा। [a]

साऊल दूसर गल्ती करत ह

24 उ दिना साऊल एक भारी गल्ती किहेस। [b] इस्राएलियन भुखान अउ थका माँदा रहेन। इ ऍह बरे भवा कि साऊल मनइयन क प्रण करइ क मजबूर किहेस। साऊल कहेस, “अगर कउनो मनई साँझ होइ स पहिले खइया क खात ह या मोरे जरिया दुस्मन क हरावइ क पहिले खाइया क खात ह तउ उ मनई क सजा दीन्ह जाइ।” ऍह बरे कउनो भी इस्राएली सिपाही भोजन नाहीं किहेन।

25-26 जुद्ध क कारण मनई जंगल मँ चला गएन। उ पचे हुआँ भुइँया प पड़ा भवा मधु क छत्ता लखेन। इस्राएली लोग उहइ ठउरे प आएन जहाँ मधु क छत्ता रहा। मनइयन भुखान रहेन, मुला उ पचे तनिक भी मधु नाहीं पिएन। उ पचे उ प्रण तोड़इ स डेरान रहेन। 27 मुला योनातान उ प्रण क बारे मँ नाहीं जानत रहा। योनातान इ नाहीं सुने रहा कि ओकर बाप उ प्रण करइ क मनइयन क बेबस किहे रहा। योनातान क हाथे मँ एक टहरइ क छड़ी रही। उ मधु क छत्ता मँ ओकरे सिरा क घुसेड़ेस। उ तनिक मधु निकारेस अउ खाएस। अउर उ आपन क चंगा किहेस।

28 सिपाहियन मँ स एक ठु योनातान स कहेस, “तोहार बाप एक खास प्रण करइ बरे सिपाहियन क मजबूर किहेस ह। तोहार बाप कहेस ह कि जउन कउनो आज खाइ, सजा पाइ। इहइ कारण रहा कि मनई कछू खाएन नाहीं। इहइ कारण अहइ कि मनई कमजोर अहइ।”

29 योनातान कहेस, “मोर बाप धरती बरे परोसानी पइदा किहे अहइ। लखा इ तनिक मधु चाटे स मइँ केतना चंगा महसूस करत हउँ। 30 बहोत नीक होत कि मनइयन उ खइया क खातेन जउन उ पचे आजु दुस्मनन स लिहे अहइँ। हम बहोत जिआदा पलिस्ती मनइयन क मारि सकित रहे।”

31 उ दिना इस्राएलियन पलिस्ती मनइयन क हराएन। उ पचे ओनसे मिकमास स अय्यालोन तलक क पूरा रस्ता प लड़ेन। काहेकी मनइयन बहोत भुखान अउ थका माँदा रहेन। 32 उ पचे पलिस्ती स भेड़ी, गाइ अउ बछवा लिहे रहेन, काहेकि अब इस्राएल क मनइयन ऍतना भुखान रहेन कि उ सबइ पसु क भुइँया प मारि डाएन अउ ओनका गोस रकत क साथ खाइ लिहेन।

33 एक मनई साऊल स कहेस, “लखा! लोग यहोवा क खिलाफ पाप करत अहइँ। उ पचे अइसा गोस खात अहइँ जेहमाँ खून बा!”

तब साऊल कहेस, “तू पचे पाप किहे अहा। हिआँ एक ठु बड़का पाथर टहराइ क लिआवा।” 34 तब साऊल कहेस, “मनइयन क लगे जा अउर कहा कि हर मनई आपन साँड़ अउ भेड़ी मोरे लगे हिआँ लिआवइ। तब्बहिं मनइयन क आपन साँड़ अउ भेड़ी हिआँ मारइ चाही। यहोवा क खिलाफ पाप जिन करा। उ गोस क जिन खा जेहमाँ रकत बा।”

उ राति मँ हर मनई आपन गोरु क लइ आवा अउ ओनका हुवाँ मारेस, 35 फिन साऊल एक ठु वेदी बनएस। साऊल यहोवा बरे खुद इ वेदी बनउब सुरु किहेस।

36 साऊल कहेस, “हम पचे आजु रात क पलिस्तियन क पाछा करब। हम सबइ हर चीज क लइ लेब। हम ओन सब क मारि डाउब।”

फउज जवाब दिहेस, “वइसा ही करा जइसा ठीक समुझत ह।”

मुला याजक कहेस, “हमका परमेस्सर स पूछइ द्या।”

37 ऍह बरे साऊल परमेस्सर स पूछेस, “का मोका पलिस्तियन क पाछा करइ चाही? का आप लोग हम पचन क पलिस्तियन क हरावइ देइहीं?” मुला परमेस्सर साऊल क उ दिन जवाब नाहीं दिहेस।

38 ऍह बरे साऊल कहेस, “मोरे लगे सबहिं प्रमुखन क लइ आवा। हम सबइ मालूम करी कि आज कउन पाप किहेस ह। 39 मइँ इस्राएल क रच्छा करइवाला यहोवा क किरिया खाइके इ प्रण करत हउँ। जदि मोर आपन पूत योनातान भी पाप किहेस ह तउ उ जरुर मरी।” फउज मँ कउनो भी कछू नाहीं कहेस।

40 तब साऊल सबहिं इस्राएलियन स कहेस, “आप लोग इ कइँती खड़ा ह्वा। मइँ अउर मोर पूत योनातान दूसर कइँती खड़ा होइहीं।”

सिपाहियन जवाब दिहेन, “महाराज, आप जइसा चाहइँ।”

41 तब साऊल पराथना किहेस, “इस्राएल क परमेस्सर यहोवा मइँ आपका सेवक हउँ आजु आप मोका जवाब काहे नाहीं देत अहइँ? अगर मइँ या मोर पूत योनातान पाप किहेस ह तउ इस्राएल क परमेस्सर यहोवा आप उरीम देइँ। अउर जदि आप क मनई इस्राएलियन पाप किहेन ह तउ तुम्मिम देइँ।”

साऊल अउ योनातान चुनि लीन्ह गएन अउ मनइयन अजाद होइ गएन। 42 साऊल कहेस, “ओनका फिन स लोकाइ द्या कि कउन पाप करइवाला अहइ मइँ या मोर पूत योनातान।” योनातान चुनि लीन्ह गवा।

43 साऊल योनातान स कहेस, “मोका बतावा कि तू का किहे अहा?”

योनातान साऊल स कहेस, “मइँ आपन कुबरी क नोंक स सिरिफ तनिक मधु चाटे रहे। का मोका उ करइ क कारण मरइ चाही?”

44 साऊल कहेस, “जदि मइँ आपन प्रण पूर नाहीं करत हउँ तउ परमेस्सर मोरे बरे बहोत खराब करइ। योनातान क मरइ चाही।”

45 मुला सिपाहियन साऊल स कहेन, “योनातान आज इस्राएल क बड़की जीत ताई पहोंचाएस। का योनातान क मरइ ही चाही? कबहुँ नाहीं। हम पचे परमेस्सर क किरिया खाइके बचन देइत ह कि योनातान क एक ठु बार भी बाँका नाहीं होइ। परमेस्सर आज पलिस्तियन क खिलाफ लड़इ मँ योनातान क मदद किहेस ह।” इ तरह मनइयन योनातान क बचाएस। ओका फाँसी क सजा नाहीं दिन्ह गइ।

46 साऊल पलिस्तियन क पाछा नाहीं किहेस। पलिस्ती आपन ठउर क लौटि गएन।

साऊल क इस्राएल क दुस्मनन स जुद्ध

47 साऊल इस्राएल प पूरा कब्जा कइ लिहेस अउ देखाइ दिहस कि उ राजा अहइ। साऊल इस्राएल क चारिहुँ कइँती रहइवालन दुस्मनन स लड़ा। साऊल अम्मोनी राजा मोआबी, सोबा क राजा एदोम, अउ पलिस्तियन स लड़ा। जहाँ कहूँ साऊल गवा, उ इस्राएल क दुस्मनन क हराइ दिहस। 48 साऊल बहोतइ बहादुर रहा। साऊल अमालेकियन क हराई अउर इस्राएलियन क ओकरे ओन दुस्मनन स बचाएस जउन इस्राएल क मनइयन स ओकर धन-दौलत छोरइ चाहत रहेन।

49 साऊल क पूत रहेन योनातान, यिसवी अउ मलकीस। साऊल क बड़की बिटिया क नाउँ मेरब रहा। साऊल क ननकी बिटिया क नाउँ मीकल रहा। 50 साऊल क मेहरारु क नाउँ अहीनोअम रहा। अहीनोअम अहीमास क बिटिया रही।

साऊल क फउज क सेनापति क नाउँ अब्नेर रहा, जउन नेर क पूत रहा। नेर साऊल क काका रहा। 51 साऊल क बाप कीस अउ अब्नेर क बाप नेर, अबीएल क पूत रहेन।

52 साऊल आपन जिन्नगी भइ बीर बना रहा अउ पलिस्तियन क खिलाफ बहादुरी स लड़ा। साऊल जब भी कबहुँ कउनो मनई क अइसा बहादुर लखत जउन ताकतवर होत तउ उ ओका लइ लेत अउर ओका उ फौजियन क टुकड़ी मँ धरत जउन ओकरे निअरे रहतेन अउर ओकर रच्छा करत रहेन।

Footnotes:

  1. 1 समूएल 14:23 एप्रैम … फइलत गवा इ वाक्य पुरान ग्रीक अनुवाद मँ बाटइ, मुला हिब्रू मँ नाहीं बा।
  2. 1 समूएल 14:24 उ दिना … किहेस इ वाक्य पुरान ग्रीक अनुवाद मँ बाटइ, मुला हिब्रू मँ नाहीं बा।
Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version Copyright © 2005 World Bible Translation Center

  Back

1 of 1

You'll get this book and many others when you join Bible Gateway Plus. Learn more

Viewing of
Cross references
Footnotes