A A A A A
Bible Book List

यहोसू 24Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

यहोसू अलविदा कहत ह

24 तब इस्राएल क सबहिं परिवार समूह सकेम मँ बटुर गएन। यहोसू ओन सबहिं क हुआँ एक संग बोलाएस। तब यहोसू इस्राएल क बुजुर्गन, ओनकइ नेतन, ओनकइ निआवधीसन अउर ओनकइ फउज क अफसरन क बोलाएस। इ सबइ मनई परमेस्सर क समन्वा खड़ा भएन।

तब यहोसू सबहिं लोगन स बात किहस। उ कहेस, “मइँ उ कहत हउँ जउन यहोवा, इस्राएल क परमेस्सर तू पचन्स कहत अहइ: ‘बहोत समइ पहिले तोहरे पचन्क पुरखन परात नदी क दुसरी कइँती रहत रहेन। मइँ ओन मनइयन क बारे मँ बात करत अहउँ, जउन इब्राहीम अउर नाहोर क पिता तेरह क तरह रहेन। ओन दिनन तोहार पचन्क पुरखन दूसर देवतन क पूजा करत रहेन। मुला मइँ, यहोवा तोहरे पचन्क पुरखन इब्राहीम क नदी क दूसर कइँती क भुइँया स बाहेर लिआएउँ। मइँ ओका कनान क भुइँया स होइके लइ गएउँ अउर ओका अनेक सन्तानन दीन्ह। मइँ इब्राहीम क इसहाक नाउँ क पूत दिहेउँ। मइँ इसहाक क याकूब अउर एसाव नाउँ क दुइ पूत दिहेउँ। मइँ साईर पहाड़े क चारिहुँ कइँती क प्रदेस एसाव क दिहेउँ। मुला याकूब अउर ओकर सन्तानन हुआँ नाहीं रहिन। मिस्र चले गएन।

“‘तब मइँ मूसा अउ हारून क मिस्र पठएउँ। मइँ मिस्र क लोगन पइ भयंकर विपत्तियन पड़इ दिहेउँ। तब मइँ तू सबइ पचन्क मिस्र स बाहेर लिआएउँ। इ तरह मइँ तोहरे पचन्क पुरखन क मिस्र स बाहेर लिआएउँ। उ पचे लाल सागर तलक आएन अउर मिस्र क लोग ओनकर पाछा करत रहेन। ओनके संग रथ अउ घुड़सवार रहेन। ऍह बरे मनइयन मोसे यानी यहोवा स मदद माँगेन अउर मइँ मिस्र क लोगन पइ बहोत बड़की विपत्ति आवइ दीन्ह। मइँ यानी यहोवा समुद्दर मँ ओनका बोर दिहेउँ। तू लोग खुद ही लख्या कि मइँ मिस्र क फउज क संग का किहेउँ।

“‘ओकरे पाछे तू पचे रेगिस्तान मँ लम्बे समइ तलक रह्या। तबइ मइँ तू पचन्क एमोरी लोगन क धरती मँ लिआएउँ। इ यरदन नदी क पूरब मँ रहा। उ सबइ लोग तोहरे पचन्क खिलाफ लड़ेन, मुला मइँ तू पचन्क ओनका हरावइ दिहेउँ। मइँ तू पचन्क ओन लोगन्क नस्ट करइ बरे सक्ती दिहेउँ। तब तू पचे उ धरती पइ अधिकार किह्या।

“‘तब सिप्पोर क पूत मोआब क राजा बालाक इस्राएल क लोगन क खिलाफ लड़इ क तइयारी किहस। राजा बोर क पूत बिलाम क बोलाएस। उ बिलाम स तू पचन क सराप देइ क कहेस। 10 मुला मइँ यहोवा बिलाम क एक न सुनेउँ। ऍह बरे बिलाम आपन चाहत क खिलाफ तू लोगन बरे नीक चीज होइ क याचना किहस। उ तू पचन्क खुले मन स आसीर्बाद दिहस। इ तरह मइँ तू पचन्क बिलाम स बचाएउँ।

11 “‘तब तू पचे यरदन नदी क पार तलक जात्रा किह्या। तू लोग यरीहो प्रदेस मँ आया। यरीहो सहर मँ बसइयन तोहर पचन्क खिलाफ लड़ेन। एमोरी, परिज्जी, कनानी, हित्ती, गिर्गासी, हिव्वी अउर यबूसी लोग भी तोहरे पचन्क खिलाफ लड़ेन। मुला मइँ तू पचन्क ओन सबका हरावइ दिहेउँ। 12 जब तोहार पचन्क फउज अगवा बढ़ी तउ तोहार दुस्मन पराइ गएन जइसे मइँ ओनका अउर अमोरी राजा क खिलाफ भोंड़ा पठाइ रहा। ऍह बरे तू लोग आपन धनुस या तरवार क प्रयोग किए बिना ही ओन पइ कब्जा कइ लिहा।

13 “‘इ मइँ, ही रहेउँ, जउन तू पचन्क उ धरती दिहेउँ। मइँ तू पचन्क उ धरती दिहेउँ जहाँ तू पचन्क कउनो काम नाहीं करइ क पड़ा। मइँ तू पचन्क सहर दिहेउँ जेनका तू पचन्क बनाउब नाहीं भवा। अब तू पचे उ धरती अउर ओन सहरन मँ रहत अहा। तोहरे सबन्क लगे अंगूरे क लता अउ जइतून क बाग अहइँ, मुला ओन बागन क तू पचे नाहीं लगाया।’”

14 तब यहोसू लोगन स कहेस, “अब तू लोग यहोवा क कहब सुनि लिह्या ह। ऍह बरे तू पचन्क यहोवा क सम्मान करइ चाही अउ ओकर सच्ची सेवा करइ चाही। ओन लबार देवतन क बहाइ द्या जेनका तोहार पचन क पुरखन पूजत रहेन। इ सब कछू बहोत समइ क पहिले फरात नदी क दूसर कइँती, मिस्र मँ भी भवा रहा। अब तू पचन्क यहोवा क सेवा करइ चाही।

15 “मुला होइ सकत ह कि तू पचे यहोवा क उपासना नाहीं करइ चहत्या। तू पचन्क खुद आज ही इ चुन लेइ चाही। तू पचन्क आजु तय कइ लेइ चाही कि तू पचे केकर उपासना करब्या। तू पचे ओन देवतन क उपासना करब्या जेनकर उपासना तोहरे पचन्क पुरखन उ समइ करत रहेन जब उ पचे नदी क दूसर कइँती रहत रहेन? या तू पचे ओन एमोरी लोगन क देवतन क उपासना करइ चाहत अहा जउन हिआँ रहत रहेन? जहाँ तलक मोरी अउ मोरे परिवार क बात अहइ, हम यहोवा क उपासना करब।”

16 तब मनइयन जवाब दिहन, “नाहीं, हम यहोवा क अनुसरण करब कबहुँ न तजब। नाहीं, हम लोग कबहुँ दूसर देवतन क सेवा नाहीं करब। 17 हम जानित ह कि उ परमेस्सर यहोवा रहा जउन हमरे लोगन क मिस्र स लिआवा। हम लोग उ देस मँ दास रहे। मुला यहोवा हम लोगन बरे हुआँ बड़कन-बड़कन काम किहस। उ उ देस स हम लोगन क बाहेर लिआवा अउर उ समइ तलक हमार रच्छा करत रहा जब तलक हम लोग दूसर देसन स होइके जात्रा कीन्ह। 18 तब यहोवा ओन एमोरी लोगन क हरावइ मँ हमार मदद किहस जउन उ प्रदेस मँ रहत रहेन जेहमाँ अज हम पचे रहित ह। ऍह बरे हम लोग यहोवा क सेवा करतइ रहब। काहेकि उ हमार परमेस्सर अहइ।”

19 तब यहोसू कहेस, “तू पचे यहोवा क काफी सेवा अच्छी तरह स नाहीं कइ सकब्या। यहोवा, पवित्तर परमेस्सर अहइ अउर परमेस्सर आपन लोगन क जरिये दूसर देवतन क पूजा स घिना करत ह। अगर तू पचे उ तरह परमेस्सर क खिलाफ जाब्या तउ परमेस्सर तू पचन्क छिमा नाहीं करी। 20 तू पचे यहोवा क तजि देब्या अउर दूसर देवतन क सेवा करब्या तब यहोवा तू पचन पइ भयंकर विपत्तियन क लिआइ। यहोवा तू पचन्क बरबाद करी। यहोवा तोहरे पचन्क बरे अच्छा रहा ह, मुला अगर तू पचे ओकरे विरूद्ध चलत अहा तउ उ तू पचन्क नास कइ देइ।”

21 मुला मनइयन यहोसू स कहेन, “नाहीं। हम पचे यहोवा क सेवा करब।”

22 तब यहोसू कहेस, “खुद आपन अउर आपन संग क लोगन क चारिहुँ कइँती निहारा। का तू पचे जानत अहा अउर अंगीकार करत अहा कि तू पचे यहोवा क सेवा करब चुन्या ह का तू सब एकर गवाह अहा?”

मनइयन जवाब दिहन, “हाँ, इ फुरइ अहइ। हम लोग धियान रखब कि हम लोग यहोवा क सेवा करब चुना ह।”

23 तब यहोसू कहेस, “ऍह बरे आपन बीच मँ जउन बीच मँ जउन लबार देवतन रखत अहा ओनक जरइ द्या। आपन पूरा हिरदइ स इस्राएल क परमेस्सर यहोवा स पिरेम करा।”

24 तब मनइयन यहोसू स कहेन, “हम लोग यहोवा, आपन परमेस्सर क सेवा करब। हम लोग ओकर आग्या क पालन करब।”

25 ऍह बरे यहोसू लोगन बरे उ दिन एक वाचा किहस। यहोसू इ वाचा क ओन लोगन क जरिये मानइ बरे एक ठु नेम बनाइ दिहस। इ सकेम नाउँ क सहर मँ भवा। 26 यहोसू इ सबइ बातन क परमेस्सर क व्यवस्था क किताबे मँ लिखेस। तब यहोसू एक ठु बड़की सिला लिआवा। इ सिला इ करारा क प्रमाग रही। उ इ सिला क यहोवा क पवित्तर तम्बू क निअरे बलूत बृच्छ क खाले धरेस।

27 तब यहोसू सबहिं लोगन स कहेस, “इ सिला तू पचन्क ओका याद दिआवइ मँ सहायक होइ जउन कछू हम पचे आजु कहे अही। इ सिला तब हिआँ रही जब परमेस्सर हम लोगन स बतियात रहा। ऍह बरे इ सिला कछू अइसी रही जउन तू पचन्क याद दिआवइ मँ मदद करी कि आजु क दिन का भवा रहा। इ सिला तोहरे बरे एक गवाह बनी रही। इ तू पचन्क तोहर परमेस्सर यहोवा क खिलाफ जाइ स रोकी।”

28 तब यहोसू लोगन स आपन घरे लउटि जाइ क कहेस तउ तउ हर एक मनई आपन प्रदेस क लउटि गवा।

यहोसू क मउत

29 ओकरे पाछे नून क पूत यहोसू मर गवा। उ एक सौ दस बरिस क रहा। 30 यहोसू आपन भुइँया तिम्नत्सेरह मँ दफनावा गवा इ रास पहाड़ क उत्तर मँ एप्रैम क पहाड़ी प्रदेस मँ रहा।

31 इस्राएल क लोगन यहोसू क जिन्नगी क समइ मँ यहोवा क उपासना किहन अउर यहोसू क मरइ क पाछे भी, लोग यहोवा क उपासना करत रहेन। इस्राएल क लोग तब भी यहोवा क उपासना करत रहेन जब तलक सबहिं बुजुर्गन जउन कि यहोसू क पाछे जिअत रहेन। इ सबइ उ सब नेता रहेन, जउन उ पचे उ सब कछू लखे रहेन जउन यहोवा इस्राएल बरे किहे रहा।

यूसुफ दफनावा गवा

32 जब इस्राएल क लोगन मिस्र तजि दिहेन तब उ पचे यूसुफ क तने क हाड़ आपन संग लइ आएन रहेन। ऍह बरे लोग यूसुफ क हाड़ सकेम मँ दफनाएन। उ पचे हाड़न क उ भुइँया मँ दफनाएन जेका याकूब सकेम क बाप हमोर क पूतन स बेसहे रहा। याकूब उ भुइँया क चाँदी क सौ सिक्कन स बेसहे रहा। इ प्रदेस यूसुफ क सन्तानन क रहा।

33 हारून क पूत एलीआजार मर गवा। उ गिबा मँ दफनावा गवा। गिबा एप्रैम क पहाड़ी प्रदेस मँ एक ठु सहर रहा। उ सहर एलीआजार क पूत पीनहास क दीन्ह गवा रहा।

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version Copyright © 2005 World Bible Translation Center

  Back

1 of 1

You'll get this book and many others when you join Bible Gateway Plus. Learn more

Viewing of
Cross references
Footnotes