A A A A A
Bible Book List

भजन संहिता 113Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

113 यहोवा क स्तुति करा,

हे यहोवा क सेवकन, ओकर स्तुति करा।
    यहोवा क नाउँ क बड़कई करा।
यहोवा क नाउँ अबहुँ
    अउर सदा सदा बरे आसीसित होइ।
मोर इ कामना अहइ, यहोवा क नाउँ क गुण पूरब स जहाँ सूरज उगत ह,
    पच्छिउँ तलक उ ठउरे मँ जहाँ सूरज बूड़त ह गावा जाइ।
यहोवा सबहिं रास्ट्रन स महान अहइ।
    ओकर महिमा अकासे तलक उठति ह।
यहोवा हमरे परमेस्सर क नाई कउनो भी मनई नाहीं अहइ
    जउन ऊँचाइ पइ विराजमान अहइ।
भले ही उ सबइ बातन क जउन धरती अउर आकासे पइ घटत ह,
    लखइ बरे उ नीचे झुकिके निगाह डावइ ह।
परमेस्सर गरीब मनइयन क धूरि स उठावत ह।
    उ ओनका क गन्दगी स निकारत ह।
परमेस्सर ओनका महत्वपूर्ण बनावत ह।
    परमेस्सर ओन लोगन क महत्वपूर्ण मुखिया बनावत ह।
कउनो मेहरारू बे औलाद होइ सकत ह, किन्तु परमेस्सर ओका बच्चा स आसीसित करी,
    अउर ओका खुस करी।

यहोवा क गुणगान करा।

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version Copyright © 2005 World Bible Translation Center

  Back

1 of 1

You'll get this book and many others when you join Bible Gateway Plus. Learn more

Viewing of
Cross references
Footnotes