A A A A A
Bible Book List

उत्पत्ति 34Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

दीना क संग कुकर्म

34 दीना लिआ अउ याकूब क बिटिया रही। एक दिन दीना उ पहटा क मेहररुअन क लखइ बाहेर गइ। उ पहटा क राजा हमोर क पूत सकेम दीना क निहारेस। उ ओका धइ लिहस अउ आपन संग तने क सम्बंध राखइ बरेओका बेबस किहस। तउ सकेम याकूब क बेटी दीना स पिरेम करइ लाग। ऍह बरे उ ओकर दिल जीतइ क कोसिस किहेस। सकेम आपन बाप स कहेस, “कृपा कइके इ लउँडिया क मोका दिआवा जेहसे मइँ एकरे संग बियाह कइ सकउँ।”

याकूब इ जान लिहेस कि सकेम ओकरी बिटिया दीना क संग बहोत बुरा कर्म किहस ह। मुला याकूब क सबहि पूत आपन गोरुअन क संग मइदान मँ गएन। ऍह बरे उ सबइ जब तलक नाही आएन, याकूब कछू नाही किहस। उ टेम सकेम क बाप हमोर याकूब क संग बात करइ गवा।

खेतन मँ याकूब क पूतन जउन कछू भवा? रहा, ओकर खबर सुनेन। जब उ पचे इ सुनेन तउ उ पचे बहोत कोहाइ गएन। उ पचे पगलाइ स गएन काहेकि सकेम याकूब क बिटिया क बलात्कार कइ के इस्राएल क बदनाम किहस। सकेम बहोतइ घिनौनी बात किहे रहा। ऍह बरे सबहि भाई लोग खेतन स घर लउटेन।

मुला हमोर भाइयन स बात किहेस। उ कहेस, “मोर पूत सकेम दीना स बहोत पिरेम करत ह। मेहरबानी कइके ओका एकरे संग बियाह करइ द्या। इ बियाह इ बात क प्रमाण होइ कि हम पचे खास सन्धि कीन्ह ह। तब हमार लोग तू पचन क मेहररुअन स अउ तोहर लोग हम पचन क मेहररुअन क संग बियाह कइ सकत हीं। 10 तू लोग हमरे संग एक पहटा मँ रहि सकित ह। तू भुइँया क सुआमी बन्ब्या अउर हिआँ बइपार करइ बरे अजाद होब्या।”

11 सकेम याकूब अउ दीना क भाइयन स भी बात किहस। सकेम कहेस, “कृपा कइके मोका अंगीकार करा अउ मइँ जउन किहेउँ ओकरे बरे छिमा करा। 12 मइँ तोहका जउन कछू उपहार तू चाहत ह देब, अगर तू मोका सिरिफ दीना क संग बियाह करइ द्या। मोका जउन कछू आप लोग करइ क कइही करब, मुला दीना क बियाह मोर संग होइ द्या।”

13 याकूब क बेटहनन सकेम अउ ओकरे बाप स झूठ बोलइ क ठान लिहन। भाइया अबहु भी पागल होत रहेन काहेकि सकेम ओनकइ बहिन दीना क संग अइसा घिनौना बेउहार किहे रहेन। 14 ऍह बरे भाइयन ओसे कहेन, “हम लोग तोहका आपन बहिन क संग बियाह नाहीं करइ देब काहेकि तोहार खतना अबहि नाहीं भवा अहइ। हमरी बहिनी क तोहसे बियाह करब ठीक न होइ। 15 मुला हम पचे तोहका ओकरे संग बियाह करइ देब अगर तू इहइ एक काम करा कि तोहरे सहर क हर मनई क खतना हम पचन क तरह होइ जाइ। 16 तब तोहरे मनई हमरी अउरतन स बियाह कइ सकत हीं अउर हमार मनई तोहरी अउरतन स बियाह कइ सकत हीं। तब हम पचे एक ही लोग बन जाब। 17 जदि तू खतना कराउब नाही कबूल करब्या तउ हम लोग दीना क लइ जाब।”

18 इ सन्धि हमोर अउ सकेम क बहोत खुस किहस। 19 दीना क भाइयन जउन कछू कहेन ओका करइ मँ सकेम बहोत खुस भवा।

सकेम परिवार क सबसे जियादा मर्जादी मनई रहा।

20 हमोर अउ सकेम अपने सहर क सभाघर क गएन। उ पचे सहर क लोगन स बातन किहन अउ कहेन, 21 “इस्राएल क इ सबइ लोग हमार मीत होवा चाहत हीं। हम लोगन क पास हम सबहिं लोगन बरे संतुटूठ भुइँया अहइ। एह बरे उ लोगन क हम लोगन क भुइँया रहइ द्या अउर एहमाँ बइपार करइ क द्या। हम पचे ऍनकी मेहररुअन क संग बियाह करइ क अजाद अही अउ हम लोग आपन मेहरारुअन ओनका बियाहे बरे देइ मँ खुस अही। 22 मुला एक बात अहइ जेका करइ बरे सबहि क सन्धि करइ क होइ। ताकि उ पचे हम लोगन क बीच रही सका अउर हम पचे एक ही लोगन होइ सकब। हमार सबइ लोग भी उपचन्क क नाईं खतना करावइ बरे राजी हो जाब। 23 जदि हम अइसा करब तउ ओनके गोरुअन अउ जनावरन स हम धनी होइ जाब। ऍह बरे हम लोग ओनके संग इ सन्धि करी अउर उ पचे हिआँ हम लोगन क संग रइही।”

24 सभाघरे प जउन लोगन इ बात सुनेन उ पचे हमोर अउ सकेम क संग राजी होइ गएन अउ उ टेम हर एक मनई क खतना कइ दीन्ह गवा।

25 तीन दिना पाछे, खतना कइ दीन्ह गए मनइयन क अबहि जख्म रहेन। याकूब क दुइ पूत सिमोन अउ लेवी जानत रहेन कि टेम लोग कमजोर होइहीं, ऍह बरे उ नगर क गएन अउर उ पचे सबहि मनइयन क मारि डाएन। 26 दीना क भाई सिमोन अउ लेवी हमोर अउ ओकरे पूत सकेम क मारि डाएस। उ पचे दीना क सकेम क घरे स बहियाइ दिहेन अउ उ पचे चला गएन। 27 याकूब क दूसर पूतन सहर मँ गएन अउ उ पचे हुआँ जउन कछू रहा, लूटि लिहन। सकेम जउन कछू ओनकइ बहिनी क संग किहे रहा, ओसे उ सबइ तब तलक कोहान रहेन। 28 ऍह बरे भाइयन ओनकइ सबहि जनावरन लइ लिहेन। उ पचे ओनकइ गदहन अउ सहर अउ खेतन मँ दूसर जउन कछू रहा, सब स लइ लिहन। 29 भाइयन ओन सबन क सब कछू लइ लिहन। भाइयन ओनकइ मेहररुअन अउ बच्चन तलक क लइ लिहन।

30 मुला याकूब सिमोन अउ लेवी स कहेस, “तू पच मोर बरे मुसीबत खड़ी कइ दिहा ह। अउ इ प्रदेस क बसइयन क मन मँ घिना पइदा कराया ह। सबहि कनानी अउ परिज्जी लोग हमरे खिलाफ होइ जइहीं। हिआँ हम बहोत तनिक अही। अगर इ पहटा क लोग हम पचन क खिलाफ लड़इ खातिर बटुरि जइही तउ हम पचन बर्बाद होइ जाब। अउ हमरे संग हमार सबहिं लोग नस्ट होइ जाइहीं। अउर मइँ अउ मोरे घरे क सबहि लोगन बर्बाद होइ जाइहीं।”

31 मुला भाइयन जवाब दिहन, “कम हम पचे ओन मनइयन क आपन बहिनी क संग पतुरिया जइसा बेउहार करइ देइ? नाही हमरी बहिनी क संग वइसा बेउहार करइ वाला लोग बुरा रहेन।”

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version (ERV-AWA)

Awadhi Bible: Easy-to-Read Version Copyright © 2005 World Bible Translation Center

  Back

1 of 1

You'll get this book and many others when you join Bible Gateway Plus. Learn more

Viewing of
Cross references
Footnotes